Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2014 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2014 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश

Thursday, 30 October 2014

कल 31 अक्टूबर लौहपुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल का जन्म दिवस राष्ट्रीय अखण्डता दिवस के रूप में बनाया जाएगा।

"सरदार वल्लभ भाई पटेल भारत के स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी एवं स्वतन्त्र भारत के प्रथम गृहमंत्री थे। सरदार पटेल बर्फ से ढंके एक ज्वालामुखी थे। वे नवीन भारत के निर्माता थे। राष्ट्रीय एकता के बेजोड़ शिल्पी थे। वास्तव में वे भारतीय जनमानस अर्थात किसान की आत्मा थे।  भारत की स्वतंत्रता संग्राम मे उनका महत्वपूर्ण योगदान है। भारत की आजादी के बाद वे प्रथम गृह मंत्री और उपप्रधानमंत्री बने। उन्हे भारत का 'लौह पुरूष' भी कहा जाता है।"

उ०प्र० बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित विद्‍यालों में विभिन्न कार्यक्रमों की समीक्षा एवं अनुश्रवण के सम्बन्ध में ः–




Wednesday, 29 October 2014

प्रदेश के स्वास्थ्य सचिव एवं जनपद के प्रभारी श्री संजय प्रसाद का कार्यालय जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, फरूखाबाद का आकस्मिक निरीक्षण–




ई०एम०आई०एस०इन्चार्ज श्री पुरूषोत्तम सिंह वर्मा से कम्प्यूटर सम्बन्धी जानकारी करते हुए स्वास्थ्य सचिव श्री संजय प्रसाद, जिलाधिकारी श्री एन०के०एस०चौहान, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्री योगराज सिंहः


परिषदीय स्कूलों में बंटेंगी अच्छे कागज की किताबें

लखनऊ : बेसिक शिक्षा विभाग की मंशा परवान चढ़ी तो अगले शैक्षिक सत्र से परिषदीय स्कूलों के बच्चों के हाथों में बेहतर गुणवत्ता की किताबें पहुंचेंगी। स्कूली बच्चों को यह किताबें सरकार की ओर से मुफ्त दी जाती हैं। इन किताबों के पन्नों की मोटाई अधिक होगी। पन्ने अधिक चमकीले होंगे। किताबों की छपाई में ऑफसेट की गुणवत्ता भी बेहतर होगी। नए सत्र में बेहतर गुणवत्ता की पाठ्य पुस्तकें छपवाने के लिए बेसिक शिक्षा निदेशालय ने शासन को प्रस्ताव भेज दिया है। किताबों की गुणवत्ता सुधारने पर 27 करोड़ रुपये का अतिरिक्त खर्च आएगा। इस अतिरिक्त खर्च में केंद्र सरकार की हिस्सेदारी 19 करोड़ रुपये व राज्य की आठ करोड़ रुपये होगी। इस प्रस्ताव को कैबिनेट की मंजूरी के लिए प्रस्तुत किया जाएगा।


प्रशिक्षु शिक्षक चयन 2011 के अन्तर्गत प्रत्यावेदन⁄प्रेच्छाओं के सम्बन्ध में राज्य स्तरीय समस्या निवारण समिति के माध्यम से निराकरण हेतु निर्देश ः–




24 विद्यालयों में बनेंगे माडल शौचालय -

  • 24 स्कूलों को मिले 16.80 लाख

फरुखाबाद: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा विद्यालयों में शौचालय जैसी बुनियादी सुविधा की उपलब्धता पर जोर से सर्व शिक्षा अभियान ने भी तैयारी कर ली है। अब शौचालय विहीन विद्यालयों में न केवल टायलेट का निर्माण होगा, अपितु विद्यालयों के नवीन शौचालय टायल्स व आधुनिक सुविधाओं से चमचमायेंगे भी। जिले के 24 विद्यालयों के खाते में माडल शौचालय निर्माण के लिए धनराशि पहुंच गई। विभागीय आंकड़ों की मानें तो जिले के 50 से अधिक परिषदीय विद्यालयों में शौचालय नहीं हैं। गांधी जी का सपना साकार करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सफाई अभियान के साथ ही स्कूलों में शौचालय की उपलब्धता को संकल्पों का शंखनाद किया तो सर्व शिक्षा महकमे के अधिकारी भी जाग गये। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी योगराज सिंह का कहना है कि प्रथम चरण में 24 स्कूलों में माडल शौचालय निर्माण के लिए 70 हजार रुपये के हिसाब से 16.80 लाख रुपये भेज दिये गये हैं। टायलेट में टायल्स लगेंगे, पानी टोटी लगेगी। टायलेट भी बालक-बालिका का अलग होगा। टाडा बहरामपुर, न्यामतपुर ठकुरान, नकला खुरु, कन्या बिलसड़ी, नगला भूड़, अताई जदीद, मिस्तनी, शाहीपुर, कन्या मदनपुर, नगला पूठा, छछौनापुर, नगला रामकिशन आदि शहर में कन्या बढ़पुर में माडल शौचालय का निर्माण स्कूल प्रबंध समिति द्वारा कराया जायेगा। जिला समन्वयक निर्माण दिलीप राजपूत बताते हैं कि शौचालय निर्माण का मानचित्र भी रजच्य परियोजना से आया है।


रीजनल इन्स्टीटयूट आफ एजूकेशन, भोपाल द्वारा गणित शिक्ष्ा पर आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन में इच्छुक गणित शिक्षकों के प्रतिभाग हेतु –


साक्षर भारत योजना का प्रभावी संचालन एवं अनुश्रवण के लिए मण्डल स्तर पर प्रभारी नियुक्त –


Tuesday, 28 October 2014

Monday, 27 October 2014

उच्‍च प्राथमिक विद्यालयों में विज्ञान/गणित विषय के सहायक अध्‍यापकों के पद पर नियुक्ति हेतु आयोजित काउन्‍सलिंग की सूचना उपलब्‍ध कराये जाने के सम्‍बन्‍ध में सूचना -


स्कूलों के निरीक्षण का डाटा बेस होगा तैयार -

फरुखाबाद : परिषदीय विद्यालयों में मूलभूत सुविधाओं की स्थापना के बावजूद पढ़ाई में सुधार न होने के लिए शासन ने विभागीय अधिकारियों को दोषी माना है। शासन का मानना है कि अधिकारियों द्वारा ठीक से विद्यालयों का निरीक्षण ही नहीं किया जा रहा है। अब विद्यालयों के निरीक्षण का कंप्यूटर डाटा बेस तैयार करने के निर्देश दिये गये हैं। बेसिक शिक्षा सचिव की ओर से प्राप्त निर्देश में कहा गया है कि शासन द्वारा परिषदीय स्कूलों में शिक्षण गुणवत्ता सुधार के लिए कई प्रयास किये गये, परंतु विद्यालयों के शैक्षिक परिवेश व छात्रों के उपलब्धि स्तर में अपेक्षानुरूप सुधार नहीं हो रहा। लगता है कि ब्लाक, जिला व मंडल के अधिकारियों द्वारा विद्यालयों का निरीक्षण व पर्यवेक्षण ठीक से नहीं किया जा रहा है। शासन ने निर्देश दिये हैं कि प्रत्येक अधिकारी से निर्धारित संख्या में विद्यालयों का निरीक्षण कराया जाये। निरीक्षण में शिक्षकों की उपस्थिति के साथ ही अकादमिक (शैक्षणिक) स्तर देखा जाये। निरीक्षणों का कंप्यूटर डाटा बेस तैयार हो। बेसिक शिक्षा अधिकारी निरीक्षण टिप्पणी सहित हर माह रिपोर्ट भेजेंगे। शासन द्वारा विकसित निरीक्षण प्रपत्र भी सचिव ने भेजा है। बीएसए योगराज सिंह ने बताया कि डाटा बेस की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। निर्धारित प्रपत्र पर ही निरीक्षण रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए निर्देशित किया गया है।
माडल स्कूल निर्माण को 1.24 करोड़ और मिले : राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के अंतर्गत राजेपुर में निर्माणाधीन राजकीय माडल स्कूल कनकापुर के लिए तीसरी किश्त में 1.24 करोड़ रुपये मिल गए हैं। माडल स्कूल की स्वीकृत लागत तीन करोड़ दो लाख रुपये है। पहली व दूसरी किश्त को मिलाकर पूर्व में एक करोड़ 50 लाख 75 हजार रुपये कार्यदायी संस्था यूपीपीसीएल को दिए गए थे। शासन ने तीसरी किश्त में एक करोड़ 24 लाख रुपये जिला परियोजना को भेज तो दिए, परंतु अब तक हुए निर्माण कार्य की तकनीकी जांच के बाद ही धनराशि कार्यदायी संस्था को स्थानांतरित की जाएगी।जिला विद्यालय निरीक्षक भगवत प्रसाद पटेल ने बताया कि राजकीय माडल स्कूल कनकापुर के निर्माण प्रगति की तकनीकी जांच हेतु कार्रवाई चल रही है। शीघ्र ही निर्माण पूर्ण कराया जायेगा।
एपीएल बालकों की यूनीफार्म को 55.40 लाख अनुमोदित-फरुखाबाद: आठवीं तक के एपीएल बालकों को यूनीफार्म देने के लिए प्रथम चरण में 55.40 लाख रुपये की धनराशि अनुमोदित की गयी है। सभी छात्रओं, अनुसूचित जाति के बालक व बीपीएल बालकों को सर्व शिक्षा के बजट से यूनीफार्म दी जाती है। एपीएल बालकों को बेसिक शिक्षा के बजट से यूनीफार्म का वितरण होता है। इस वर्ष 33 हजार एपीएल बालकों को यूनीफार्म का वितरण किया जाना है। परंतु बेसिक शिक्षा की ओर से अभी मात्र 56 लाख रुपये का बजट प्राप्त हुआ है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी योगराज सिंह का कहना है कि प्रथम चरण में 13851 एपीएल बालकों को यूनीफार्म वितरण करने के लिए 55 लाख 40 हजार 400 रुपये स्कूलों को भेजने के लिए अनुमोदन कर दिया गया है। वित्त एवं लेखाधिकारी को विद्यालयों में धनराशि हस्तांतरित करने के लिए पत्रवली भेजी जा रही है। विद्यालयों को दो सेट यूनीफार्म के लिए प्रति छात्र 400 रुपये के हिसाब से पैसा भेजा जायेगा।
शिक्षक के वेतन का दावा खारिज-फरुखाबाद : कायमगंज के सहायक अध्यापक अनिल कुमार त्रिपाठी ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर एक जुलाई 2012 से वेतन भुगतान की मांग बेसिक शिक्षा विभाग से की थी। न्यायालय ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को सुनवाई कर निर्णय करने के आदेश दिए थे।बेसिक शिक्षा अधिकारी योगराज सिंह ने बताया कि सहायक अध्यापक ने एक जुलाई 2012 से अद्यतन उपस्थिति नहीं दी है। शिक्षण कार्य भी नहीं किया है। इसलिए वेतन दिया जाना नियमानुसार नहीं है। शिक्षक को पूर्व माध्यमिक जिनौल से कार्यमुक्त कर पूर्व माध्यमिक विद्यालय झब्बूपुर में कार्यभार ग्रहरण करने के आदेश दिए गए हैं। 
(Dainik Jagran)

सेवानिवृत्‍तक लाभों का समय से एवं सही रूप से भुगतान करने के सम्‍बन्‍ध में वित्‍त नियन्‍त्रक द्वारा निर्देश जारी -




1900 विद्यालयों को भेजे जाएंगे एमडीएम परिवर्तन लागत के 3.15 करोड़

फरुखाबाद : मध्याह्न भोजन योजना के अंतर्गत जुलाई से सितंबर माह तक के 69 शिक्षण दिवसों की परिवर्तन लागत भेजने की कार्रवाई अंतिम चरण में पहुंच गई। 1900 विद्यालयों को 3.15 करोड़ रुपये परिवर्तन लागत भेजी जाएगी। चालू शिक्षा सत्र में अभी तक विद्यालयों को मध्याह्न भोजन की परिवर्तन लागत नहीं मिल सकी है। मध्याह्न भोजन प्राधिकरण से ग्रांट दस दिन पूर्व ही प्राप्त हुई थी। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी योगराज सिंह ने मुख्य विकास अधिकारी से पत्रवली अनुमोदित कराकर वित्त एवं लेखाधिकारी को तत्काल भुगतान कार्रवाई कराने को कहा है। वित्त एवं लेखाधिकारी गजेंद्र सिंह गौर ने बताया कि पत्रवली एवं बिल अनुमोदन की कार्रवाई होते ही टोकन के लिए बिल कोषागार भेजा जाएगा। टोकन मिलते ही परिवर्तन लागत की धनराशि विद्यालयों के मध्याह्न भोजन खाते में स्थानांतरित कर दी जाएगी।


प्रशिक्षु शिक्षक चयन 2011 के त्रुटिपूर्ण डाटा को दिनॉंक 28-10-2014 तक संसोधन करने के सम्‍बन्‍ध में निर्देश जारी -