Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Friday, 4 September 2015

शिक्षक दिवस पर समस्त शिक्षक बंधुओ को शत-शत प्रणाम



कृष्णा जन्माष्टमी पर सभी शिक्षको एवं पाठक बंधुओ को हार्दिक शुभकामनाये -



04 सितम्बर को शिक्षक दिवस कार्यक्रम पर मा० प्रधानमंत्री जी श्री नरेन्द्र मोदी के संबोधन को सुनते विभिन्न स्कूलों के बच्चे -









जन्माष्टमी पर स्कूलों में मनेगा शिक्षक दिवस -

फरुखाबाद : आगामी 5 सितंबर को जन्माष्टमी का अवकाश होने के बावजूद प्राथमिक से लेकर माध्यमिक विद्यालयों तक में शिक्षक दिवस मनाने के निर्देश दिए गए हैं। जिला विद्यालय निरीक्षक भगवत प्रसाद पटेल ने बताया कि 5 सितंबर को जन्माष्टमी का अवकाश होने के बावजूद विद्यालयों में शिक्षक दिवस का कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश दिए गए हैं। इस अवसर पर पूर्व राष्ट्रपति सर्व पल्ली राधाकृष्णनन के चित्र पर माल्र्यापण एवं उनके विचारों से छात्रों को अवगत कराने को कहा गया है। सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जायेंगे। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी योगराज सिंह ने बताया कि परिषदीय विद्यालयों में शिक्षक दिवस मनाने के संबंध में निर्देश जारी किए गए हैं। उन्होंने कहा कि अवकाश के बावजूद प्रात:काल छात्रों एवं शिक्षकों को स्कूल में आकर कार्यक्रम में शामिल होने को कहा गया है।

Thursday, 3 September 2015

लाल, पीले, हरे बच्चों की 7 सितंबर को होगी पहचान

लाल, पीले, हरे बच्चों की 7 सितंबर को होगी पहचान 

फरुखाबाद : आंगनबाड़ी केंद्रों पर पांच वर्ष तक के सभी बच्चों का वजन करने के लिये 7 व 10 सितंबर को अभियान चलाया जाना है। इसके लिये नियुक्त सुपरवाइजारों को बुधवार को प्रशिक्षण दिया गया। मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि उम्र, वजन और लंबाई के आधार पर बच्चों को लाल, पीले व हरे वर्ग में रखा जायेगा। उन्होंने कहा कि केंद्र पर पंजीकृत पांच वर्ष तक के सभी बच्चों का वजन कर तीन श्रेणियों में बांटा जायेगा। सामान्य बच्चों को हरे वर्ग में, कुपोषित को पीेले व अतिकुपोषित को लाल वर्ग में रखा जायेगा। प्रत्येक सुपर वाइजर को क्षेत्र में लगातार भ्रमण कर आवंटित केंद्रों का पर्यवेक्षण करना होगा। सुपरवाइजर को प्रत्येक केंद्र का दिन में कम से कम तीन बार दौरा कर रिपोर्ट देनी होगी। इस दौरान आशा कार्यकत्री व अध्यापक गांव में भ्रमण कर बच्चों को केंद्र तक लाने के लिये माताओं को प्रेरित करेंगे। 

अब 8 सितंबर को होगी शिक्षकों की पदोन्नति के लिए काउंसिलिंग -

फरुखाबाद : उच्च प्राथमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापक पद पर पदोन्नति के लिये महिला व विकलांग शिक्षकों की काउंसिलिंग अब 8 सितंबर को होगी। बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय द्वारा शिक्षकों की अद्यतन वरिष्ठता सूची न बनाये जाने के कारण गुरुवार को होने वाली वाली काउंसलिंग स्थगित कर दी गई है। इससे पूर्व 13 अगस्त की काउंसलिंग तिथि भी एन वक्त पर स्थगित हो गई थी। डायट प्राचार्य रमेश चंद्र वर्मा ने बताया कि 3 सितंबर की काउंसलिंग तिथि अब 8 सितंबर कर दी गई है।

अब खुलेगी गणित-विज्ञान शिक्षकों की भर्ती की राह

  • हाईकोर्ट एक साथ सुनेगा सभी याचिकाएं, 
  • आठ को तारीख लगी नियुक्ति प्रक्रिया

इलाहाबाद : उच्च प्राथमिक स्कूलों के गणित-विज्ञान विषय के 29334 सहायक अध्यापकों की भर्ती की राह अब खुलेगी। हाईकोर्ट ने भर्ती प्रक्रिया की खामियों को लेकर दाखिल सभी याचिकाओं को अब एक साथ सुनने का फैसला किया है। आठ सितंबर को सुनवाई होगी। 1इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डा.डीवाई चंद्रचूड़ तथा न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की खंडपीठ ने वीरेंद्र पनवार, अजीत यादव आदि की विशेष अपील की सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया है। इस मामले में सातवें दौर की काउंसिलिंग के अभ्यर्थियों को समायोजित करने के बाद आठवें दौर की काउंसिलिंग के अभ्यर्थियों की नियुक्ति करने का अंतरिम आदेश है। अन्य पीठ ने एक जिले की चयन सूची को नये सिरे से प्रकाशित करने के आदेश दिए हैं। विभिन्न पीठों द्वारा याचिकाओं पर पारित आदेशों के चलते अध्यापकों की नियुक्ति उलझी हुई है। यह भी कहा गया कि अपीलार्थी 2011 की टीईटी पास हैं जो 2013-14 के टीईटी अभ्यर्थियों के साथ चयन चाहते हैं। 29 अप्रैल 2014 के शासनादेश से 84.5 अंक पाने वालों को सफल माना गया है जो 2013-14 के टीईटी अभ्यर्थियों पर ही लागू है, किन्तु एकल पीठ ने इसे नहीं माना है जिसे चुनौती दी गयी है। 

कोर्ट का कहना है कि सहायक अध्यापकों की भर्ती मामले में अंतिम निर्णय किया जाना चाहिए। इसलिए सभी याचिकाओं को एक साथ सुनवाई हेतु पेश किये जाने का आदेश दिया है। कोर्ट ने मुख्य स्थायी अधिवक्ता एके राय से इस मामले में दाखिल विचाराधीन सभी याचिकाओं की सूची शुक्रवार चार सितंबर तक देने को कहा है।

Tuesday, 1 September 2015

परिषदीय स्कूलों के शिक्षक मनचाहे स्कूलों में तबादला -

  • मनपसंद तीन स्कूलों का दे सकेंगे विकल्प
  • समझौते पर भी पा सकेंगे मनचाही तैनाती
  • जिले के अंदर तबादले की नीति हुई जारी
लखनऊ। परिषदीय स्कूलों के शिक्षक मनचाहे स्कूलों में तबादला करा सकेंगे। बस उन्हें मनपसंद के विकास खंड के तीन स्कूलों का विकल्प देना होगा। एक ही स्कूल के लिए कई आवेदन पर निशक्त, विधवा तथा गंभीर रूप से बीमारों को प्राथमिकता दी जाएगी। जहां तीनों में कोई शिक्षक नहीं होगा वहां वरिष्ठता को आधार माना जाएगा। तबादले की प्रक्रिया सितंबर तक पूरी करनी होगी। अधिकतम समय सीमा 15 अक्तूबर रखी गई है। सचिव बेसिक शिक्षा एचएल गुप्ता ने सोमवार को जिले के अंदर परिषदीय शिक्षकों के तबादले की नीति 2015-16 जारी कर दी।
राज्य सरकार ने जिले के अंदर शिक्षकों को तबादला के लिए पहली बार आवेदन लेने की व्यवस्था लागू की है। आवेदन न करने वाले शिक्षकों को स्थानांतरित नहीं किया जाएगा और न ही किसी शिक्षक को संबद्ध किया जाएगा। तबादला नीति के मुताबिक किसी स्कूल में दो शिक्षक हैं और दोनों तबादला चाहते हैं तथा उनके स्थान पर दूसरे स्कूल से शिक्षक आना चाहता है, तो ऐसे आवेदन पर भी विचार किया जाएगा। गंभीर बीमारी या निशक्त होने के आधार पर तबादला चाहने वालों के प्रमाण पत्रों की जांच सीएमओ से कराई जाएगी।
शिक्षा का अधिकार अधिनियम में निर्धारित छात्र संख्या के आधार पर तबादला किया जाएगा। तय छात्र संख्या से अधिक शिक्षक तैनात नहीं किए जाएंगे और न ही स्कूलों को बंद व एकल किया जाएगा। स्थानांतरण में शिक्षकों की वरिष्ठता का ध्यान रखा जाएगा और इसका निर्धारण उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा अध्यापक नियमावली 1981 के आधार पर किया जाएगा। प्रत्येक उच्च प्राथमिक स्कूल में एक ही विज्ञान शिक्षक को तैनात किया जाएगा। जहां उर्दू पढ़ने वाले बच्चे होंगे वहां उर्दू शिक्षक अनिवार्य रूप से स्थानांतरित किया जाएगा।
तबादले के लिए आवेदन 10 सितंबर तक
शासनादेश जारी होने के बाद सचिव बेसिक शिक्षा परिषद संजय सिन्हा ने आवेदन लेने संबंधी कार्यक्रम जारी कर दिया है। इसके मुताबिक 5 सितंबर को स्कूलों में रिक्त पदों की सूची जिलेवार नेशनल इनफार्मेटिक सेंटर (एनआईसी) की वेबसाइट पर डाल दी जाएगी। शिक्षक 10 सितंबर तक तीन-तीन स्कूलों के विकल्प के साथ खंड शिक्षाधिकारी आवेदन दे सकेंगे और वह 12 सितंबर को सूची बीएसए को भेज देगा। मंडल स्तर पर गठित समिति 19 सितंबर को स्थानांतरण सूची जारी कर देगी।
तबादला पाने के लिए करना होगा आवेदन
शिक्षकों को जिले के अंदर तबादला पाने के लिए खंड शिक्षा अधिकारियों के माध्यम से बेसिक शिक्षा अधिकारी को आवेदन करना होगा। इसके लिए निर्धारित प्रारूप आवेदन करना होगा। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद इसका प्रारूप जारी करेंगे। इसके लिए 30 जून 2015 तक कार्यभार ग्रहण करने वाले शिक्षक पात्र होंगे। मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक (एडी बेसिक) की अध्यक्षता में प्रत्येक मंडल में स्थानांतरण के लिए समिति बनाई जाएगी। इसका सदस्य सचिव संबंधित जिले का बेसिक शिक्षा अधिकारी होगा। इसमें बीएसए से नामित व डायट प्राचार्य से नामित एक अधिकारी सदस्य होगा।

16 विद्यालयों में हैंडपंप को 6.56 लाख स्थानांतरित

16 विद्यालयों में हैंडपंप को 6.56 लाख स्थानांतरित

फरुखाबाद : हैंडपंप विहीन 16 परिषदीय विद्यालयों में शीघ्र ही बच्चों को पेयजल सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। सोमवार को प्रति विद्यालय 41 हजार रुपये के हिसाब से जल निगम को 6.56 लाख स्थानांतरित कर दिए गए। प्राथमिक विद्यालय कड़हर, खुटिया, सिवारा खास, बहबलपुर, गौरखेड़ा, खान आलमपुर, कन्या प्राइमरी बढ़पुर तथा उच्च प्राथमिक विद्यालय मकसूदपुर पट्टी, अमेठी जदीद, याकूतगंज, हुसैनपुर नौखंडा, गिलैंदा, पुंथर, कन्या उच्च प्राथमिक रुदायन आदि विद्यालयों में भी हैंडपंप लगाए जाएंगे। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी योगराज सिंह ने धनराशि स्थानांतरित की।

15000 सहायक अध्यापको की भर्ती में वि० बी० टी० सी० 2004 , 2007 & 2008 वालो को सम्मिल्लित करने हेतु विज्ञप्ति जारी -


यूपी के 27 शिक्षकों को राष्ट्रीय पुरस्कार -

•शिक्षक दिवस पर राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित
लखनऊ। केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय अध्यापक पुरस्कारों की घोषणा कर दी है। इस साल सूबे के कुल 27 शिक्षकों को यह पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। शिक्षक दिवस पर 5 सितंबर को दिल्ली में होने वाले समारोह में राष्ट्रपति इन शिक्षकों को पुरस्कृत करेंगे। इनमें बेसिक शिक्षा परिषद के 17 शिक्षक हैं। इनमें दो विशेष वर्ग के हैं। वहीं माध्यमिक शिक्षा परिषद के स्कूलों के 10 शिक्षकों को पुरस्कृत किया जाएगा। इनमें विशेष वर्ग में एक और संस्कृत वर्ग में दो शिक्षक हैं।
बेसिक स्तर के शिक्षक
•अशोक कुमार प्रजापति, सहायक अध्यापक, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, परसेहराकलां खैराबाद, सीतापुर

•मिश्रीलाल यादव, प्रधानाध्यापक, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, अल्लूनगर डिगुरिया, लखनऊ
•अदील मंसूरी, प्रधानाध्यापक, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, उत्तरधौना चिनहट, लखनऊ
•बासुदेव यादव, प्रधानाध्यापक, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, खानदेव बंथरा, लखनऊ
•शिवजोर, प्रधानाध्यापक, प्राथमिक विद्यालय, पुलिस लाइन नगर क्षेत्र, जौनपुर
•महावीर सिंह, प्रधानाध्यापक, परिषदीय जूनियर हाईस्कूल, देवता दनकौर, गौतमबुद्ध नगर
•ठाकुर सिंह, सहायक अध्यापक, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, कोदारस बुजुर्ग ब्लॉक अमावां, रायबरेली
•डॉ. पुष्पा देवी पल्लवी, सहायक अध्यापक, सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य सेंकडरी स्कूल, बहादुर नगर सौरो, कासगंज
•नसीर खान, प्रधानाध्यापक, उच्च प्राथमिक विद्यालय, हरदासपुरा बरहापुरा, इटावा
•डॉ. सविता शर्मा, प्रधानाध्यापक, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, निराना सदर ब्लॉक, मुजफ्फरनगर
•हकीमुद्दीन, प्रधानाध्यापक, बेसिक शिक्षा परिषद जूनियर हाईस्कूल, टिकरौल, सहारनपुर
•शबीना परवीन, सहायक अध्यापक, जूनियर हाईस्कूल कंधारपुर, उमरसिया, बरेली
•अमरेश सिंह, प्रधानाध्यापक, प्राइमरी स्कूल, मीरपुर ब्लॉक नारायनपुर, मिर्जापुर
•उदयराज यादव, प्रधानाध्यापक, पीवी धनधारी ब्लॉक कोयलसा, आजमगढ़
•कृपाल सिंह, प्रधानाध्यापक, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, सोरहा ब्लॉक इस्लामनगर, बदायूं

विशेष वर्ग प्राइमरी के शिक्षक
•सैयद गजनफर हुसैन, प्रधानाध्यापक, जेएच स्कूल, नई बस्ती झांसी

•हुकुम सिंह, प्रधानाध्यापक, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, नगलाशेख अगौता, बुलंदशहर

माध्यमिक स्तर के अध्यापक
•राजेंद्र प्रसाद यादव, प्रधानाचार्य, हिंदू विद्यालय इंटर कॉलेज, जयवंत नगर, इटावा

•अशोक कुमार तिवारी, प्रधानाचार्य, सीडी इंटर कॉलेज लखपेरा कोटा भवानी गंज, प्रतापगढ़
•डॉ. बेनी माधौ, प्रधानाचार्य, महाबोधि इंटर कॉलेज, सारनाथ, वाराणसी
•सत्यपाल सिंह तोमर, प्रधानाचार्य, एलडीएवी इंटर कॉलेज, अनूपशहर, बुलंशहर
•डॉ. सुरेश कुमार तिवारी, प्रधानाचार्य, आरवीएसवी सिंह इंटर कॉलेज, कमलापुर, सीतापुर
•अहमद खान, प्रधानाचार्य, सुभाष इंटर कॉलेज, नेरा, कन्नौज
•जमरूद जहां, सहायक अध्यापक, उर्दू जीजीआईसी, अमरोहा
विशेष वर्ग के शिक्षक
•नंद प्रसाद यादव, उप प्रधानाचार्य, राजकीय जुबली इंटर कॉलेज, गोरखपुर
संस्कृत शिक्षक वर्ग
•राम अजोर शुक्ला, सहायक अध्यापक, संस्कृत माध्यमिक विद्यालय, सोनहा, बस्ती
•मुनींद्र देव शर्मा, प्रधानाचार्य, शांति निकेतन संस्कृत माध्यमिक विद्यालय, कानाकोर, पीलीभीत


Friday, 28 August 2015

रक्षा बंधन के पावन पर्व पर समस्त शिक्षक/शिक्षिकाओ को बेसिक शिक्षा परिवार को ओर से हार्दिक शुभकामनाये -



245 प्रधानाध्यापक पदों पर प्रमोशन का रास्ता साफ

फर्रुखाबाद पदोन्नति मामला 

परिषदीय उच्च प्राथमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक के 245 पदों पर पदोन्नति का रास्ता साफ हो गया है। डायट प्राचार्य रमेश चंद्र वर्मा ने महिला व विकलांग शिक्षकों की काउंसिलिंग के लिये 3 सितंबर की तिथि घोषित कर दी है। 13 सितंबर 1997 तक की नियुक्ति वाले शिक्षकों का नाम सूची में शामिल किया गया है। सूची में शामिल महिला व विकलांग शिक्षकों से काउंसलिंग में तीन-तीन विद्यालयों के विकल्प लिये जायेंगे। विकल्प के आधार पर ही विद्यालय में पदस्थापित किया जायेगा। विकल्प के लिये काउंसलिंग से एक दिन पूर्व विद्यालयों की सूची चस्पा कर दी जायेगी। प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष विजय बहादुर यादव ने काउंसलिंग तिथि के लिये गुरुवार को बेसिक शिक्षा अधिकारी व डायट प्राचार्य से वार्ता की। डायट प्राचार्य ने बताया कि शिक्षक संघ के अनुरोध पर पत्रवली का परीक्षण करने के बाद तिथि घोषित की गई है। 

परिषदीय स्कूलों में तैनाती पाने वाले प्रशिक्षु शिक्षक फिलहाल उन्हीं स्कूलों में पढ़ाते रहेंगे-

  • सचिव बेसिक शिक्षा परिषद ने बेसिक शिक्षा अधिकारियों को भेजा निर्देश
  • निर्देश जारी

Click here to enlarge image
 इलाहाबाद : परिषदीय स्कूलों में तैनाती पाने वाले प्रशिक्षु शिक्षक फिलहाल उन्हीं स्कूलों में शिक्षण कार्य करते रहेंगे। बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव संजय सिन्हा ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को इस आशय का निर्देश भेजा है। उसमें स्पष्ट है कि अगले आदेश तक यही निर्देश प्रभावी माना जाए। 1प्राथमिक स्कूलों में 72825 शिक्षकों की भर्ती हुई। इसके प्रथम बैच में नियुक्त 43 हजार 182 प्रशिक्षु शिक्षकों को स्कूलों में तैनाती दी गई थी। उन्हें शिक्षण कार्य करते रहने के साथ ही जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) से छह माह का प्रशिक्षण भी दिया गया। प्रशिक्षण पूरा होने पर सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी उत्तर प्रदेश की ओर से बीते 24 व 25 अगस्त को सभी 75 जिलों के 130 केंद्रों पर परीक्षा कराई गई। परीक्षा सकुशल संपन्न हो गई। परीक्षा के बाद स्कूलों में तैनात प्रशिक्षु शिक्षकों के संबंध में क्या किया जाना है।1 यह स्पष्ट नहीं था। मसलन, परीक्षा परिणाम आने के बाद वह शिक्षण कार्य करेंगे या फिर उनका तैनाती स्थल बदलेगा आदि सवाल खड़े हुए। कई बेसिक शिक्षा अधिकारियों ने इस संबंध में सचिव बेसिक शिक्षा परिषद को पत्र भेजकर आवश्यक निर्देश भी मांगे। इस पर सचिव सिन्हा ने बेसिक शिक्षा अधिकारियों को लिखा है कि प्रथम बैच की परीक्षा में शामिल होने वाले प्रशिक्षु शिक्षक पूर्व की तरह अपनी नियुक्ति के विद्यालय में शिक्षण कार्य में आगामी आदेशों तक सहयोग देते रहेंगे।

हाई कोर्ट के फैसले का पालन करेगी सरकार -

  • सरकारी सेवकों, जन प्रतिनिधियों के बच्चों को परिषदीय स्कूलों में पढ़ाने का मामला
  • विधान परिषद में सरकार ने दिया आश्वासन 

लखनऊ : हाई कोर्ट द्वारा सरकारी सेवकों, स्थानीय निकायों के जनप्रतिनिधियों, न्यायाधीशों और राजकोष से वेतन व सुविधाएं पाने वाले लोगों को अपने बच्चों को परिषदीय स्कूलों में पढ़ाने के बारे में दिए गए आदेश का सरकार पालन करेगी। गुरुवार को विधान परिषद में सरकार की ओर से यह आश्वासन दिया गया। प्रश्नकाल के दौरान सपा के देवेंद्र प्रताप सिंह ने अनुपूरक प्रश्न किया कि सरकार कब तक हाई कोर्ट के फैसले को क्रियान्वित करेगी? जवाब में बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री योगेश प्रताप सिंह ने कहा कि हाई कोर्ट का आदेश शिरोधार्य है। आदेश की प्रति प्राप्त हो गई है, सरकार उस पर विचार कर रही है। न्यायालय के आदेश का पालन किया जाएगा। ध्यान रहे, हाई कोर्ट ने 18 अगस्त को यह आदेश पारित करते हुए कहा था कि सरकारी खजाने से वेतन व सुविधाएं ले रहे बड़े लोगों के बच्चे जब तक प्राथमिक शिक्षा के लिए अनिवार्य रूप से सरकारी स्कूलों में नहीं पढ़ेंगे, तब तक इन स्कूलों की दशा नहीं सुधरेगी। अदालत ने सरकार को छह महीने में आदेश पर अमल का निर्देश दिया है।