Breaking News -
विवि‍ध समाचार सार-*******BEd 72825 भर्ती मामले में मा0सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार टीईटी की मेरिट के आधार भर्ती प्रक्रिया प्रारम्‍भ, 29-30-31 अगस्‍त माह को काउन्‍सलिंग निर्धारित*********कस्तूरबा गाॅधी बालिका विद्यालयों में आगामी सत्र हेतु तैयारियाॅ एवं ग्रीष्माकालीन शिविर आयोजन के सम्बन्ध में निर्देश जारी**********भारत साक्षरता मिशन योजनान्तर्गत प्रेरकों की संविदा अवधि बढ़ाये जाने के सम्बन्ध में निर्देश************शिक्षामित्र तीन चरणों में बनाए जाएंगे शिक्षक : शासनादेश जारी*********कस्तूरबा गाॅधी बालिका विद्यालयों में अल्पसंख्यक छात्राओं का लक्ष्य के सापेक्ष नामांकन कराये जाने के सम्बन्ध में निर्देश जारी -*********साक्षर भारत मिशन योजना का दि0 31-03-2017 तक विस्‍तारीकरण**********उ0प्र0शासन द्वारा "आर्शीवाद" बाल स्‍वास्‍थ्‍य गारण्‍टी योजना जारी*************मा0मुख्‍यमन्‍ञीजी के अध्‍यापकों के प्रति घोषणा प्रञ जारी*********शिक्षा के अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत दुर्बल एवं अलाभित समूह बच्‍चों को 25 प्रति‍शित प्रवेश सम्‍बन्‍धी शासनादेश

Tuesday, 2 September 2014

जल्‍द जारी होगी नई शिक्षा नीति - मानव संसाधन विकास मन्‍त्रालय, भारत सरकार।

मानव संसाधन विकास मन्‍त्रालय द्वारा जल्‍द ही नई शिक्षा नीति जारी होगी, इसके संकेत मा0मन्‍त्री स्‍मृति जुबिन इरानी, मन्‍त्री मानव संसाधन विकास, भारत सरकार द्वारा दिये गये है। उन्‍होंने अवगत कराया कि शिक्षानीति 1980 (1990 में लागू हुई)  से चली आ रही है, जो कि काफी वर्षो से चली आ रही है।  जल्‍द ही नई शिक्षा नीति जारी कर दी जायेगी।  

Monday, 1 September 2014

राज्‍य /राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार से सम्‍मानित शिक्षक को अपनी सेवा में क्‍या - क्‍या लाभ प्राप्‍त होते है - क्‍या आप जानते है ?

राज्‍य पुरस्‍कार/राष्‍ट्रपति पुरस्‍कार से सम्‍मानित शिक्षकों को पुरस्‍कार एवं प्रमाण पत्र के साथ जनपद में उसको सेवाकाल में निम्‍न लाभ प्राप्‍त होते है - 
1- राष्‍ट्रीय/राज्‍य पुरस्‍कार से सम्‍मानित शिक्षक को उसी पद पर रहते हुए अतिरिक्‍त प्रोत्‍साहन के रूप में एक अतिरिक्‍त वेतनवृद्वि (पर्सनल ) की स्‍वीकृति मिलती है, यह लाभ उसको पूर्ण सेवाकाल  तक मिलती रहेगी।  
2-राष्‍ट्रीय/राज्‍य पुरस्‍कार से सम्‍मानित शिक्षक को 62 वर्ष की अधिवर्षता आयु तथा तत्‍पश्‍चात 02 वर्ष का सेवाविस्‍तार का लाभ प्राप्‍त होता है।

स्कूलों के लिए चुनौती बना पीएम मोदी का भाषण

  • यू0पी0 सरकार ने शुरू की तैयारियॉ, जारी किये दिशा निर्देश -
नई दिल्ली। 5 सितंबर को शिक्षक दिवस पर नरेंद्र मोदी का भाषण देश के सभी स्कूलों में बच्चों को सुनाए जाने का निर्देश जारी करने के साथ मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि यह स्वैच्छिक होगा। लेकिन दूसरी तरफ शिक्षक दिवस को ‘गुरु उत्सव’ के रूप में मनाने का राजनैतिक विरोध भी शुरू हो गया है। मोदी के भाषण को लेकर यूपी, पंजाब, हिमाचल और जम्मू में स्कूलों के सामने कई व्यवस्थागत चुनौतियां भी खड़ी हो गई हैं। मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में ही उनका भाषण सुनने पर संशय बना हुआ है। वाराणसी के डीआईओएस अवध किशोर सिंह और बीएसए सुभाष गुप्ता को अभी लिखित निर्देश का इंतजार है। यहां के अधिकांश स्कूलों में व्यवस्था को लेकर कई सवाल खड़े हुए हैं।
सबसे बड़ी मुसीबत पंजाब के टीचरों की है। यहां गवर्नमेंट टीचर्स यूनियन ने दिल्ली के निर्देशों को तुगलकी फरमान बताते हुए कहा कि विभाग ने फंड तक नहीं दिया है ऐसे में यह विशेष व्यवस्था कैसे की जाए। हालांकि शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव अंजलि भांवरा ने कहा है कि यदि स्कूलों को कोई दिक्कत आ रही है तो सूचित करें लेकिन टीचरों के लिए जमीनी हकीकत यह है कि सुबह आठ से शाम पांच बजे तक भूख से बेहाल बच्चों को रोकें कैसे। यूपी में भी बच्चों को इतनी देर तक रोकना चुनौती बताया जा रहा है। पंजाब में धान सीजन के चलते जनरेटर किसानों ने किराए पर ले रखे हैं, ऐसे में यह व्यवस्था मुश्किल होगी। भूखे बच्चों के लिए मिड डे मील के कोई स्पष्ट निर्देश नहीं हैं। पीएम का भाषण 5 सितंबर को दोपहर 3 बजे से 4.45 के बीच होगा। इस वक्त यूपी में राज्य स्तर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों का समय भले ही समाप्त हो जाता है, लेकिन स्कूलों में सुबह की शिफ्ट के बच्चों को पौन घंटे देर तक रोकना कई शहरों में स्कूलों के लिए चुनौती बताई जा रही है।


प्राइमरी स्कूलों में 72,825 प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती - दूसरी काउंसलिंग के लिए मांगा रिक्त पदों का ब्यौरा

  • स्नातक में 45 फीसदी अंक वालों को शामिल करने पर नहीं हो सका फैसला
  • दूरस्थ शिक्षा से बीएड वालों को शामिल करने के लिए दिया गया ज्ञापन
लखनऊ। राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने प्राइमरी स्कूलों में 72,825 प्रशिक्षु शिक्षक की भर्ती के लिए दूसरे चरण की काउंसलिंग की तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए डायटों से पहले चरण की काउंसलिंग में शामिल होने वालों और रिक्त पदों का ब्यौरा मांगा है। उधर, स्नातक में 45 फीसदी अंक वालों और दूरस्थ शिक्षा से बीएड करने वालों को शामिल करने पर अभी तक कोई निर्णय नहीं हो सका है। इस संबंध में सोमवार को काफी संख्या में अभ्यर्थियों ने एससीईआरटी निदेशक सर्वेंद्र विक्रम सिंह को ज्ञापन दिया।
प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती के लिए पहले चरण की काउंसलिंग रविवार को समाप्त हो चुकी है। पहले चरण की काउंसलिंग में डायट प्राचार्यों की मनमानी से अभ्यर्थियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। सोमवार को एससीईआरटी के खुलते ही वहां अभ्यर्थियों का जमावड़ा होने लगा। देखते ही देखते वहां काफी संख्या में अभ्यर्थी जुट गए। अभ्यर्थियों ने एससीईआरटी के निदेशक से मिलकर पहले चरण की काउंसलिंग में आने वाली समस्याओं से अवगत कराया।
अधिकतर अभ्यर्थियों की शिकायत थी कि शासनादेश में स्पष्ट निर्देश के बाद भी स्नातक से 45 फीसदी अंक पाने वालों को काउंसलिंग में शामिल नहीं किया गया। इसके अलावा दूरस्थ शिक्षा से बीएड करने वालों को भी इसी तरह बाहर कर दिया गया। अभ्यर्थियों ने मांग की है कि दूसरे चरण की काउंसलिंग में इस संबंध में स्पष्ट निर्देश जारी किया जाए ताकि उन्हें परेशानियों का सामना न करना पड़े। एससीईआरटी के निदेशक ने कहा है कि अभ्यर्थियों की शिकायतें सुनी गई हैं और सचिव बेसिक शिक्षा को इसकी जानकारी दी जाएगी।


प्रशिक्षु शिक्षक चयन 2011 के प्रथम काउन्‍सलिंग में अर्ह पाये गये अभ्‍यर्थियों की सूची प्रेषण के सम्‍बन्‍ध में निर्देश जारी, प्रथम काउन्‍सलिंग करा चुके अभ्‍यर्थियो के नाम द्वितीय काउन्‍सलिंग में नही होगेंं।



बी0एड प्रशिक्षु भर्ती - कुशीनगर में टीईटी का फर्जी अंक पत्र लेकर काउन्‍सलिंग कराने पहुंचा अभ्यर्थी, धरा गया मुन्‍ना भाई

  • ढ़ाई लाख में हुए सौदे का खुलासा
  • टी0ई0टी0 अंकतालिका की फोटो कापी पर एक निश्चित जगह पर अंग्रेजी में जीरोक्स शब्‍द लिखकर न आने से उत्‍पन्‍न हुई संदिग्‍धता की स्थिति।
  • तीसरे दिन काउसिंलिंग के दौरान टीईटी मोर्चा की तत्परता से धराया। 

कुशीनगर-मास्‍टर साहब बनने की होड़ में कुशीनगर डायट में काउसिंलिंग कराने आया आगरा का मुन्ना भाई पकड़ा गया है। टीईटी का फर्जी अंक पत्र लेकर पहुंचे अभ्यर्थी ने धरे जाने पर फर्जीवाड़ा की सच्चाई न सिर्फ कबूल की बल्कि चौकाने वाली बात भी बताई। उसने 2.50 लाख रुपये में शिक्षक बनाने के गोपनीय सौदे से भी पर्दा उठा दिया। टीईटी उत्तीर्ण शिक्षकों के 72825 पदों पर तैनाती के क्रम में पूरे प्रदेश में एक साथ संचालित काउसिंलिंग के तीसरे दिन समय समाप्ति के महज दो घंटे पहले पहुंचे आगरा के एक स्मार्ट अभ्यर्थी ने दस्तावेजों के साथ अपनी अभ्यर्थिता जताते हुए अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। अनुसूचित जाति कैटेगरी के होने के प्रमाण पत्रों के साथ 116 अंकों सहित 3036440 के अनुक्रमांक वाली टीईटी का अंक पत्र संलग्न किया था। जांच के दौरान मौजूद रहे टीईटी मोर्चा के पदाधिकारी राहुल सिंह व उनकी टीम ने संदेह जताया तो डायट कर्मियों ने इसे हल्के में लिया। राहुल कहते हैं कि टीईटी अंक पत्र की फोटो कापी पर एक निश्चित जगह पर अंग्रेजी में जीरोक्स शब्द आ जाता है जबकि मुन्ना भाई के अंक पत्र में कुछ भी लिखा न होने पर ही प्रथम दृष्टया संदेह हुआ। मामला उजागर होने पर मुन्ना भाई साथ रहे परिषदीय विद्यालय के हेडमास्टर संग भागने के फिराक में था कि मौजूद युवाओं ने घेर लिया। मौके पर पुलिस भी पहुंची। इस दौरान मुन्ना भाई ने इस फर्जीवाड़ा को सिलसिलेवार ढंग से सार्वजनिक किया।

 पूरे यूपी में सक्रिय है रैकेट 

यूपी में शिक्षक भर्ती घोटाला कोई नया खेल नहीं है। पूर्व में बीटीसी, वर्ष 2007, 2009, 2011 में विशिष्ट बीटीसी के बाद अब 2014 में टीईटी में भी चौकाने वाले मामले प्रकाश में आने लगे हैं। आगरा, इलाहाबाद, मेरठ समेत प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में सक्रिय रैकेट संचालकों, डायट व शिक्षा विभाग की तिकड़ी से खेले जा रहे खुले खेल में लाखों की डील होती, सावधानी से काउसिंलिंग कराकर तैनाती करा ली जाती। बात यहीं तक नहीं अंक पत्र व प्रमाण पत्रों के सत्यापन में भी गोटी सेट कर नौकरी सुरक्षित कर ली जाती। बीते वषरे में कुशीनगर में काउसिंलिंग के दौरान व शिक्षक बनने के दो से तीन वर्ष के भीतर तकरीबन दो दर्जन शिक्षक फर्जी अंक पत्रों के सहारे नौकरी करते जांच में धरे जा चुके हैं। 

ओरिजनल टी0ई0टी0 अंकतालिका की फोटोकापी में Zerox Copy प्रिन्‍ट होकर आता है।


Sunday, 31 August 2014

प्राथमिक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया - शिक्षकों की काउंसिलिंग में 353 पद खाली -

फर्रूखाबाद-प्रदेश में 72825 प्राथमिक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया के अंतर्गत जनपद के 400 पदों के लिए चली काउंसलिंग के अंतिम दिन तक 47 अभ्यर्थी ही आये। 353 पद खाली रह गये। सर्वाधिक रिक्त पद सामान्य पुरुष कला में रहे। इस वर्ग के 40 पदों में 36 रिक्त हैं। सामान्य पुरुष विज्ञान के 36 पदों में 31 रिक्त रह गये। ओबीसी पुरुष साइंस के 22 में 14 व कला के 22 में 18 पद खाली रहे। अनुसूचित जाति पुरुष विज्ञान में 17 व कला में 16 पद रिक्त रह गये। अनुसूचित जनजाति पुरुष विज्ञान वर्ग, शारीरिक विकलांग महिला, शिक्षामित्र महिला सहित 7 वर्गो में कोई भी अभ्यर्थी काउंसलिंग में नहीं आये। डायट प्राचार्य भगवत प्रसाद पटेल ने बताया कि तीन दिवसीय काउंसलिंग का ब्योरा राज्य शैक्षणिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) को भेज दिया गया। 


प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती- 45 फीसदी वालों को नहीं माना पात्र -

  • एससीईआरटी0निदेशक के आदेश के बावजूद डायट प्राचार्यों की मनमानी से अभ्यर्थी भटके
  • कहीं हुई काउंसलिंग तो कहीं लौटाए गए 
लखनऊ। प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती में पहले चरण की काउंसलिंग रविवार को समाप्त हो गई। राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) के निदेशक सर्वेंद्र विक्रम सिंह के आदेश के बाद भी डायट प्राचार्यों ने खूब मनमानी की। स्थिति यह रही कि स्नातक में 45 फीसदी अंक वालों को कहीं काउंसलिंग में शामिल किया गया तो कहीं लौटा दिया गया। छोटी-छोटी जानकारी के लिए अभ्यर्थियों को भटकना पड़ा। गैर जरूरी कागजात के लिए इतना दौड़ाया गया कि उनके पसीने छूट गए। 
एससीईआरटी ने 72,825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती के लिए पहले चरण में तीन दिन 29, 30 व 31 अगस्त को काउंसलिंग कार्यक्रम तय किया था। एससीईआरटी ने जो कार्यक्रम जारी किया था उससे अभ्यर्थियों को काउंसलिंग में किसी तरह की दिक्कतें न आती, लेकिन डायट प्राचार्यों ने या तो इससे जुड़े आदेश को पढ़ा नहीं या फिर उसकी अनदेखी कर दी। एससीईआरटी से जारी आदेश में स्पष्ट कहा गया है कि 27 सितंबर 2011 को जारी शासनादेश संख्या 3176 में दी गई व्यवस्था के आधार पर आवेदकों को पात्र मानते हुए काउंसलिंग की जाएगी। इसके बाद भी डायट प्राचार्यों ने इसका पालन नहीं किया। स्थिति यह रही कि कई जिलों में 45 फीसदी अंकों में स्नातक उत्तीर्ण करने वालों को काउंसलिंग में शामिल किया गया तो कई जिलों में ऐसे अभ्यर्थियों को वापस कर दिया गया।

डायट प्राचार्यों की मनमानी के खिलाफ 72,825 प्रशिक्षु शिक्षक के अभ्यर्थी एससीईआरटी का घेराव करने की तैयारी में हैं। हरेंद्र मौर्या, शशि भूषण आदि कुछ अभ्यर्थियों ने कहा है कि 27 सितंबर 2011 को जारी शासनादेश में स्पष्ट व्यवस्था दी गई है कि 45 फीसदी अंक में स्नातक पास वाले शिक्षक भर्ती के पात्र होंगे। इसके बाद भी डायट प्राचार्य मनमानी पर उतारू हैं। इससे तो बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मंशा साफ नहीं लग रही है। सुप्रीम कोर्ट का स्पष्ट आदेश है कि भर्ती प्रक्रिया जल्द पूरी की जाए। इसके बाद भी अधिकारी इसे लटकाने पर उतारू हैं। इसलिए अभ्यर्थी जल्द ही एससीईआरटी का घेराव करेंगे।


गणित-विज्ञान शिक्षक भर्ती में चौथी काउन्‍सलिंग में बुलाये जायेगें 15 गुना अभ्यर्थी -

  • बेसिक शिक्षा परिषद ने जिलेवार रिक्तियों का मांगा ब्यौरा
लखनऊ। उच्च प्राथमिक स्कूलों में गणित व विज्ञान शिक्षकों की भर्ती के लिए चौथे चरण के काउंसलिंग की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद संजय सिन्हा ने जिलेवार रिक्तियों का पूरा ब्यौरा मांगा है। ब्यौरा मिलने के बाद चौथे चरण की काउंसलिंग का कार्यक्रम जारी किया जाएगा। जानकारों की मानें तो इस बार 15 गुना अभ्यर्थियों को बुलाए जाने की योजना है। तीसरे चरण में 10 गुना अभ्यर्थियों को बुलाया गया था।
बेसिक शिक्षा परिषद ने पहली बार उच्च प्राथमिक स्कूलों में गणित व विज्ञान शिक्षक के रिक्त 29,334 पदों पर सीधी भर्ती के लिए आवेदन मांगा था। आए हुए आवेदनों के आधार पर पहले चरण की काउंसलिंग 7 व 8 जुलाई को कराई गई। इसमें मात्र 8500 अभ्यर्थी शामिल हुए। दूसरे काउंसलिंग 23 व 24 जुलाई को हुई जिसमें 9500 अभ्यर्थी आए। तीसरे चरण की काउंसलिंग में 10 गुना अभ्यर्थियों को बुलाते हुए 21 व 22 अगस्त को काउंसलिंग कराई गई।
जानकारों के अनुसार तीसरे चरण की काउंसलिंग में भी पद के अनुरूप अभ्यर्थी नहीं पहुंचे। इसलिए चौथे चरण की काउंसलिंग में 15 गुना अभ्यर्थियों को बुलाने की योजना है। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद ने इस संबंध में जिलेवार रिक्तियों का ब्यौरा मांगा है। जैसे ही ब्यौरा मिलेगा काउंसलिंग का कार्यक्रम घोषित कर दिया जाएगा।


Saturday, 30 August 2014

शिक्षा के परिदृश्‍य में - क्‍या आप जानते है ?

नि-शुल्‍क एवं बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 के तहत आपके विद्यालय में निम्‍न 10 Infrastructure (भौतिक संसाधनों) का होना अनिवार्य है, इसको पूर्ण करने के लिए केन्‍द्र सरकार एवं राज्‍य सरकार कटिबद् है।-

1-Building  - बिल्‍डिंग
2-HM room cum office cum store room -प्रधानाध्‍यापक आफिस/स्‍टोर कक्ष 
3-One classroom for every teacher-प्रत्‍येक अध्‍यापक के लिए एक कक्ष
4-Ramp - नि-शक्‍त बच्‍चो के लिए रैम्‍प
5-Separate toilet for boys- बालकों के लिए अलग शौचालय
6-Separate toilet for girls - बालिकाओं के लिए अलग शौचालय
7-Drinking water facility - पानी की उपलब्‍धता
8-Kitchen shed - किचेन शेड
9-Boundary wall - वाउण्‍ड्रीवाल
10-Playground - खेलकूद मैदान

प्रदेश में राज्‍य अध्‍यापक पुरस्‍कार 2013 के चयनित अध्‍यापकों की सूची, जिन्‍हें पुरस्‍कृत किया जायेगा।


05 सितम्‍बर 2014 को शिक्षक दिवस के अवसर पर मा0प्रधान मन्‍त्री जी द्वारा स्‍कूली बच्‍चों को सम्‍बोधित किये जाने के सम्‍बन्‍ध में निर्देश -




बी0एड0 प्रशिक्षु भर्ती में जिला चयन समिति के समक्ष काउन्‍सलिंग कराते अभ्‍यर्थी, उपस्थित कम ।





Friday, 29 August 2014

शिक्षक दिवस पर पीएम की ‘पाठशाला’ -

  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय की पहल
  • परिषदीय और कान्वेंट स्कूलों में लाइव टेलीकास्ट 5 को
  • तीन बजे से होगा प्रसारण
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक और अभिनव प्रयोग।

प्रधानमन्‍त्री जी नौनिहालों से सीधे रूबरू होंगे। वह भी पाठशाला में। यह संभव होगा, शिक्षक दिवस पर। इस रोज प्रधानमंत्री की ‘पाठशाला’ सभी माध्यम के बेसिक और माध्यमिक स्कूलों में लगेगी। जरिया बनेगा हाईटेक संचार नेटवर्क। कार्यक्रम की थीम क्या रहेगी, अभी स्पष्ट नहीं है। अलबत्ता, इतना पता चला है कि प्रधानमंत्री का भाषण प्रेरक होगा। वे बच्चों से देश की जरूरतों, उनकी भागीदारी और भविष्य का भारत बनाने पर बात करेंगे। लोकसभा चुनाव के दौरान पहली बार जनता ने मोदी के हाईटेक प्रचार का अंदाज देखा। कभी वे थ्री डी तकनीक के जरिये लोगों के बीच अवतरित हुए, कभी चाय पर चर्चा के जरिये संवाद स्थापित किया। पीएम बनने पर भी यह सिलसिला तोड़ा नहीं। कक्षा एक से लेकर इंटर तक के सभी स्कूलों (यूपी बोर्ड, सीबीएसई, आइसीएसई) में बच्चों को मोदी का भाषण सुनाया जाएगा। इस बाबत अपर सचिव मानव संसाधन विकास मंत्रलय वृंदा स्वरूप सभी शिक्षा बोर्डो को निर्देश जारी कर चुकी हैं। बेसिक शिक्षा निदेशक संजय सिन्हा ने पत्र का हवाला देते हुए सभी बीएसए और डीआइओएस को प्रधानमंत्री के लाइव टेलीकास्ट की तैयारी सुनिश्चित करने को कहा है। इंडिपेडेंट स्कूल एसोसिएशन बरेली की सचिव पारुष अरोड़ा के मुताबिक सभी कान्वेंट स्कूलों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। सीबीएसई ने कार्यक्रम में शामिल होने वाले बच्चों की संख्या भी मांगी है। हर संचार माध्यम के तहत बच्चों का पंजीकरण अनिवार्य है। निजी ऑपरेटरों से डीटीएच आदि की व्यवस्था की जा रही। मानव संसाधन विकास मंत्रालय के मुताबिक, प्रधानमंत्री का भाषण अपराह्न तीन बजे से पौने पांच बजे खत्म होगा। स्कूल सेटेलाइट चैनल, रेडियो, इंटरनेट और डीटीएच में से किसी भी संचार माध्यम से बच्चों को मोदी से रूबरू करा सकते हैं।



बी0एड0 प्रशिक्षु भर्ती की काउन्‍सलिंग के सम्‍बन्‍ध में -


बाल श्रमिक उल्‍मूलन के 46 विद्यालय बन्‍द - श्रम विभाग ने बेसिक शिक्षा विभाग को दी जानकारी


उ0प्र0 राजर्षि टण्‍डन मुक्‍त विश्‍वविद्यालय में प्रवेश सूचना के सम्‍बन्‍ध में विज्ञप्ति -


बीटीसी- निजी कॉलेजों में खत्म होगा फीस का अंतर - 41 हजार रुपये फीस निजी कॉलेजों में करने की तैयारी

  • फ्री व पेड सीटों में अभी अलग-अलग है फीस
लखनऊ। बीटीसी के निजी कॉलेजों में फ्री व पेड सीटों में फीस के अंतर को सरकार खत्म करने जा रही है। अब निजी कॉलेजों में दोनों सीटों की एक समान फीस करते हुए 41 हजार रुपये करने की तैयारी है। अभी निजी कॉलेजों में फ्री सीट पर 22 हजार व पेड सीट के लिए 44 हजार रुपये लिए जा रहे हैं। सरकारी सीटों पर भी 4,600 रुपये फीस बढ़ाने पर सरकार विचार कर रही है।
सचिव बेसिक शिक्षा एचएल गुप्ता की अध्यक्षता में शुक्रवार को फीस निर्धारण कमेटी की बैठक हुई। इसमें निजी बीटीसी कॉलेजों में फ्री व पेड सीटों की फीस खत्म कर एक समान फीस करने पर सहमति बन गई है। प्रदेश में 710 निजी कॉलेज हैं। प्रत्येक कॉलेज में 50 बीटीसी की सीटें हैं। सरकार के इस फैसले से निजी कॉलेजों को काफी फायदा होगा।
सरकारी सीटों की बढ़ाई जा सकती है फीस
फीस निर्धारण समिति की बैठक में बीटीसी की सरकारी सीटों की भी फीस बढ़ाये जाने पर चर्चा हुई। इसमें कहा गया कि सरकारी सीटों में अभी भी काफी कम फीस ली जा रही है। इसे भी कुछ बढ़ाया जा सकता है। यह फीस कितनी बढ़ेगी यह अभी तय नहीं हुआ है। हालांकि यह तय हो गया कि बीटीसी की सरकारी सीटों पर फीस बढ़ेगी। प्रदेश में सरकारी 10,450 सीटें हैं। कुछ ही दिनों में फीस निर्धारण समिति के फैसलों पर सरकार आदेश जारी करेगी।


माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड की नियमावली में संशोधन अब भर्ती के आवेदन ऑनलाइन भी -

लखनऊ। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड में सीधी भर्ती से भरे जाने वाले पदों पर अब ऑनलाइन आवेदन किया जा सकेगा। अखिलेश यादव की कैबिनेट ने शुक्रवार को इसके लिए चयन बोर्ड की नियमावली में जरूरी संशोधन को हरी झंडी दे दी है। वहीं प्रधानाचार्यों व प्रधानाध्यापकों की भर्ती के लिए संबंधित कॉलेज का नाम व स्थान भी दिया जाएगा जिससे वे पहले ही अपनी पसंद बता सकेंगे। अब तक चॉइस लेने की व्यवस्था नहीं थी।
कैबिनेट ने नियमावली के नियम संख्या 12 में जो संशोधन किए गए हैं, उसके अनुसार बोर्ड सीधी भर्ती के साथ ही आरक्षित वर्ग की बैकलॉग भर्तियों को भी इसमें शामिल किया गया है। खाली पदों का विज्ञापन कम से कम दो ऐसे समाचार पत्रों में देना होगा जिसका राज्य में व्यापक प्रसार हो। विज्ञापन में यह देना होगा कि चयन के लिए आवेदन पत्र ऑनलाइन या ऑफलाइन किस तरह मांगे जा रहे हैं। या फिर दोनों विधियों से आवेदन पत्र आमंत्रित किए जा रहे हैं। ऑनलाइन आवेदन के साथ ही इसकी फीस भी ऑनलाइन जमा हो जाएगी। इससे आवेदन पत्र प्राप्त न होने वाली शिकायतें खत्म हो जाएंगी। आवेदन पत्र का प्रारूप ओएमआर शीट के रूप में होगा। इसकी बिक्री राष्ट्रीकृत बैंक अथवा डाकघर के माध्यम से की जाएगी।
इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य या हाईस्कूल के प्रधानाध्यापक पद के विज्ञापन में अब संस्था के नाम और स्थान का भी उल्लेख किया जाएगा। आवेदन में अभ्यर्थियों से तीन संस्थाओं के नाम वरीयता से देने के लिए कहा जाएगा। यदि कोई अभ्यर्थी केवल किसी एक विशिष्ट संस्था या संस्थाओं के लिए ही आवेदन चाहता है तो वह आवेदन पत्र में इस तथ्य का उल्लेख कर सकता है।

शैक्षिक सत्र 2014-15 में नि-शुल्‍क यूनीफार्म की गुणवत्‍ता एवं समयबद्व वितरण सुनिश्चित करने हेतु निर्देश जारी -








शैक्षिक परिदृश्‍य में - क्‍या आप जानते है ?


प्रदेश के प्रथम चरण में इटावा सहित 06 जनपदों में समस्‍त परिषदीय प्राथमिक एवं उ0प्राथमिक विद्यालयों में जी0आई0एस0 (GIS) के आधार पर समस्‍त विद्यालयों का चिन्‍हाकंन का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। इस योजना के तहत समस्‍त विद्यालयों को इन्‍टरनेट एवं जी0पी0एस0 के आधार पर आसानी से देखा जा सकेगा। उक्‍त विद्यालय पर क्लिक करने से उस विद्यालय की फोटो सहित समस्‍त कार्यरत अध्‍यापक, बच्‍चों सहित समस्‍त जानकारी प्राप्‍त होगी। उक्‍त योजना से जिन विद्यालयों में विद्यालय नहीं है, उस मजरे का आसानी से सर्वे किया जा सकेगा। अगले चरण में अन्‍य जनपदों को इस योजना में सम्मिलित करने की प्रक्रिया गतिमान है। 

शैक्षिक परिदृश्‍य में - क्‍या आप जानते है ?

मा0 प्रधानमन्‍त्री श्री नरेन्‍द्र मोदी जी द्वारा देश के समस्‍त सरकारी /सहायतित विद्यालयों में अध्‍ययनरत छात्र- छात्राओं के लिए अनिवार्य रूप से कम से कम एक-एक शौचालय (अलग-अलग) होने का लक्ष्‍य सुनिश्चित किया गया है। इसका पूर्ण करने का लक्ष्‍य 31 मार्च 2015 रखा गया है। यदि यह सुविधा आपके विद्यालय में नहीं है, तो आप इस सम्‍बन्‍ध में अपने जनपद के बेसिक शिक्षा अधिकारी/खण्‍ड शिक्षा अधिकारी से सम्‍पर्क कर अपना प्रस्‍ताव भेज सकते है। 

Thursday, 28 August 2014

72825 बी0एड0 भर्ती के सम्‍बन्‍ध में विज्ञापन की प्रति -


शिक्षकों का शुरुआती वेतन 28 हजार रुपये -

लखनऊ : कई साल के अदालती विवाद के बाद आखिरकार नौकरी के मुकाम तक पहुंचे 72825 प्राथमिक सहायक शिक्षकों का वेतन लगभग 28 हजार रुपये होगा। हालांकि प्रशिक्षण अवधि में उन्हें 7300 रुपये मानदेय ही मिलेगा। इन शिक्षकों की नियुक्ति से प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों की कमी आंशिक रूप से दूर हो जाएगी। चयनित 72825 प्राथमिक सहायक शिक्षकों की सूची गुरुवार को जारी की गई है। इन्हें उप्र बेसिक शिक्षा (अध्यापक) नियमावली 1981 के तहत नियुक्ति किया गया है।  चयन प्रक्रिया पूरी होने के बाद पहले छह महीने तक प्रशिक्षण के दौरान उन्हें प्रतिमाह मानदेय दिया जाएगा। प्रशिक्षण के बाद सहायक अध्यापक पद पर नियुक्ति किए जाने पर मूल वेतन हासिल होगा। चयनित शिक्षकों का वेतनमान- 9200 से 34800 और वेतन-2 ग्रेड पे 4200 रुपये होगा। मेरिट के आधार पर चयनित अभ्यर्थियों के प्रशिक्षण का क्रम तय किया जाएगा। गौरतलब है कि प्रदेश में 1.60 लाख प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल हैं। प्राथमिक स्कूलों में तीन लाख, 86 हजार, 726 और उच्च प्राथमिक स्कूलों में एक लाख 58 हजार पद स्वीकृत हैं, लेकिन मौजूदा समय मात्र दो लाख, 86 हजार, 787 शिक्षक कार्यरत हैं और दो लाख, 57 हजार 939 पद रिक्त हैं।

सात शिक्षकों को राज्य अध्यापक पुरस्कार

लखनऊ। राज्य सरकार ने माध्यमिक शिक्षा परिषद के सात शिक्षकों को राज्य अध्यापक पुरस्कार देने का फैसला किया है। प्रधानाचार्य राजा राम महिला इंटर कॉलेज बदायूं की सुषमा कथूरिया, प्रधानाचार्य भैया हरिमान दत्त इंटर कॉलेज धानेपुर गोंडा के प्रेम नारायण सिंह, प्रधानाचार्य जैन इंटर कॉलेज रामपुर के डॉ. प्रेम स्वरूप शर्मा, प्रधानाचार्य कर्नल ईश्वरी सिंह इंटर कॉलेज टेकपुर जालौन के डा. सुरेंद्र प्रताप कुलश्रेष्ठ, सहायक अध्यापक किसान इंटर कॉलेज बभनान बस्ती के राधेश्याम वर्मा, प्रधानाचार्य कन्या विद्यापीठ इंटर कॉलेज कायमगंज फर्रुखाबाद की सुनीता सचान तथा शिक्षक प्रशिक्षक प्रवक्ता डायट सैदपुर गाजीपुर के राम अवतार सिंह को राज्य अध्यापक पुरस्कार दिया जाएगा।

पुरुषों में सबसे कम 127 और महिलाओं में 119 गई मेरिट - जिलेवार काउंसलिंग आज से

  • प्रशिक्षु शिक्षकों की काउंसलिंग में सिर्फ एक जिले में मौका
लखनऊ। राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने 72,825 प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती के लिए मेरिट बृहस्पतिवार को ऑनलाइन कर दिया। मेरिट में आने वालों को काउंसलिंग के लिए सिर्फ एक ही जिले में मौका दिया गया है। काउंसलिंग प्रक्रिया लंबी चलने के आसार हैं। पुरुष कला वर्ग में सबसे कम मेरिट कासगंज, लखमीपुर व कौशांबी की 127 अंक और इसी वर्ग में महिला की सबसे कम मेरिट संतकबीर नगर में 119 अंक तक गई है। काउंसलिंग शुक्रवार से शुरू होकर रविवार तक चलेगी।
प्राइमरी स्कूलों में प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती के लिए आवेदन नवंबर 2011 में लिए गए थे। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर शिक्षकों की भर्ती अब हो रही है। शिक्षक भर्ती के लिए मेरिट तो वैसे बुधवार को ही जारी कर दी गई थी, लेकिन ऑनलाइन बृहस्पतिवार को किया गया। मेरिट देखने के बाद लाखों आवेदकों के उम्मीदों पर पानी फिर गया है। आवेदन की संख्या अधिक होने की वजह से मेरिट इतनी अधिक गई है कि 120 से कम अंक पाने वालों को मौका नहीं मिला है। महिला कला वर्ग में सबसे अधिक मेरिट फतेहपुर, गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद व मेरठ में 137 गई है। इसी तरह पुरुष कला वर्ग में सबसे अधिक मेरिट गाजियाबाद व मेरठ में 139 गई है।
मेरिट देखने में छूटे पसीने
प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती के लिए मेरिट देखने में आवेदकों को पसीने छूट गए। एससीईआरटी ने दावा किया था कि वेबसाइट http://upbasiceduboard.gov.in पर 12 बजे से मेरिट देखी जा सकेगी, लेकिन आवेदकों ने जब इसे खोलने का प्रयास किया तो उनके पसीने छूट गए। वेबससाइट शाम चार बजे के आसपास खुलनी शुरू हुई। यही नहीं वेबसाइट रुक-रुक कर खुलने की वजह से लोगों को परेशानियों का सामना भी करना पड़ा।


400 प्रशिक्षु भर्ती की प्रक्रिया कल से शुरू - काउन्‍सलिंग कार्यालय जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, फर्रूखाबाद में -

जनपद फर्रूखाबाद में रिक्‍त 400 प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती प्रक्रिया की काउन्‍सलिंग दि0 29-08-2014 से शुरू हो रही है, उक्‍त पदों पर काउन्‍सलिंग की कार्यवाही कार्यालय जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, फर्रूखाबाद में  सम्‍पन्‍न होगी। 

मा0 प्रधानमन्‍त्री जी 05 सितम्‍बर 2014 शिक्षक दिवस पर 3 बजे से 4-45 बजे छात्र-छात्राओ को करेगें सम्‍बोधित, टेलीकास्‍ट सुनने के निर्देश जारी -


72825 बी0एड0 भर्ती के सम्‍बन्‍ध में बेवसाइट जारी -

72825 बी0एड0 भर्ती के सम्‍बन्‍ध में बेवसाइट http://upbasiceduboard.gov.in/ पर समस्‍त कटआफ विवरण जारी हो गया है, विवरण निम्‍नवत है -
IMPORTANT NOTE : 
  • अभ्यर्थी किसी कठिनाई के निवारण के लिये सम्बन्धित जनपद के डायट एवं जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से सम्पर्क करें।
  • अभ्यर्थी अपने आवेदित जनपद के सम्ब्न्धित श्रेणी के कट-आफ में होने के बावजूद औपबंधिक काउसंलिंग लिस्ट में न होने की स्थिति में सुसंगत अभिलेखों के साथ अपना प्रत्यावेदन दिनांक 31, अगस्त, 2014 की सांय 5:00 बजे तक डायट एवं बी0एस0ए0 को दे सकते है।
  • काउंसलिंग हेतु औपबंधिक सूची जनपद में उपलब्ध सीटों के सापेक्ष विभिन्न आरक्षण श्रेणीवार अभ्यर्थी के टी0ई0टी0 2011 के प्राथमिक स्तर के प्राप्तांक के घटते क्रम में बनायी गयी है। प्राप्तांक समान होने की दशा में अधिक आयु वाले अभ्यर्थी को वरीयता दी गयी है। आयु भी समान होने की दशा में अंग्रेजी वर्णानुक्रमानुसार काउंसलिंग सूची तैयार की गयी है। इस आधार पर जनपद में उपलब्ध सीटों की संख्या के बराबर विभिन्न आरक्षण श्रेणीवार कट-आफ प्रदर्शित है।

72925 बी0एड0 भर्ती की होने वाली प्रथम काउन्‍सलिंग का जनपदवार कटआफ विवरण -




प्रथम काउन्‍सलिंग का कटआफ विवरण - जनपद फर्रूखाबाद