Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Monday, 5 October 2015

मिड-डे मील के लिए बच्चों को मिलेगी थाली-गिलास -

  • कैबिनेट मंजूरी के लिए भेजा जाएगा प्रस्ताव
लखनऊ । परिषदीय स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को मिड-डे मील खाने के लिए अब घर से बर्तन नहीं लाना होगा। राज्य सरकार स्कूल में ही बर्तन की व्यवस्था कराएगी। इसमें थाली के साथ गिलास भी दिए जाएंगे। इसके लिए मध्याह्न भोजन योजना में बजट की व्यवस्था की जा रही है। शासन स्तर से इसके लिए प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है। जल्द ही कैबिनेट से मंजूरी लेने की तैयारी है।परिषदीय स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को मिड-डे मील योजना में खाना देने की व्यवस्था है। शहरी क्षेत्रों में स्वयंसेवी संस्थाओं और ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम शिक्षा समिति के माध्यम से खाना दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर बच्चों को प्रत्येक बुधवार को दूध देने की शुरुआत की गई है। मिड-डे मील में खाना देने की तो व्यवस्था है, लेकिन इसके लिए उन्हें घर से बर्तन लाना पड़ता है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को स्कूलों के निरीक्षण के दौरान यह जानकारी मिली थी। उन्होंने इसके बाद निर्देश दिया था कि बच्चों को मिड-डे मील के लिए बर्तन की व्यवस्था की जाए।
इसके आधार पर ही मध्याह्न भोजन प्राधिकरण ने शासन को प्रस्ताव भेजा है। इसके मुताबिक बच्चों को थाली व गिलास देने के लिए तुरंत करीब 25 करोड़ रुपये की जरूरत होगी। शासन में उच्चाधिकारियों की बैठक में सहमति बन चुकी है। मुख्यमंत्री से अनुमति लेने के लिए इस प्रस्ताव को कैबिनेट मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। वहां से मंजूरी मिलने के बाद स्कूलों में बच्चों को थाली व गिलास देने की शुरुआत कर दी जाएगी।

No comments:

Post a Comment