Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Friday, 11 September 2015

सरकारी सहायता प्राप्त व मान्यता प्राप्त प्राथमिक एवं जूनियर हाईस्कूल में खराब शौचालय पर मान्यता होगी समाप्त-

सरकारी सहायता प्राप्त व मान्यता प्राप्त प्राथमिक एवं जूनियर हाईस्कूल में शौचालय खराब पाए जाने पर मान्यता समाप्त कर दी जाएगी। इस संबंध में बेसिक शिक्षा निदेशक के निर्देश आ गए हैं। जिले में 550 मान्यता व सहायता प्राप्त स्कूल चल रहे हैं। कई स्कूलों में बालक व बालिकाओं के लिए अलग-अलग शौचालयों की व्यवस्था दुरुस्त नहीं है। निदेशक की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि स्वच्छ विद्यालय-स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत सभी विद्यालयों में बालक और बालिकाओं के लिए अलग-अलग शौचालय चालू हालत में होने चाहिए। सहायता प्राप्त व मान्यता प्राप्त स्कूलों में भी जांच करायी जाए। शौचालय ठीक न हो तो मान्यता वापस लेने की कार्रवाई कर निदेशालय को अवगत कराया जाए। हालांकि निदेशालय द्वारा जारी की गयी सूची में दो विद्यालयों में ही शौचालय न होने या खराब होने की संख्या दी गई है। इसलिए सभी विद्यालयों में शौचालय की पड़ताल को अभियान चलाया जाएगा। ज्ञातव्य है कि कई मान्यता प्राप्त स्कूलों में लड़के व लड़कियों के लिए अलग-अलग शौचालय नहीं हैं। शौचालयों की साफ सफाई की व्यवस्था भी बदहाल है। अभी तक केवल परिषदीय विद्यालयों में ही खराब शौचालयों को ठीक कराए जाने का अभियान चलाया जा रहा था। अब निजी प्रबंध समितियों द्वारा संचालित मान्यता प्राप्त स्कूलों में भी शिकंजा कसने की तैयारी है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी योगराज सिंह ने खंड शिक्षा अधिकारियों को मान्यता प्राप्त व अनुदानित विद्यालयों में जांच कर शौचालयों की व्यवस्था के संबंध में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। जिला समवंयक को भी आवश्यक कार्रवाई के लिए कहा गया है।

No comments:

Post a Comment