Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Saturday, 25 July 2015

इंटर के बाद होगी बीएड बीटीसी की पढ़ाई -

कानपुर। अब इंटरमीडिएट के बाद से ही बैचलर ऑफ एजूकेशन (बीएड) और बैचलर ऑफ टीचर्स ट्रेनिंग (बीटीसी) की पढ़ाई की जा सकेगी। अभी ग्रेजुएशन के बाद बीएड और बीटीसी की पढ़ाई का मौका मिलता है। नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजूकेशन (एनसीटीई) ने बीए और बीएससी के साथ ही टीचर एजूकेशन के इन कोर्सों की पढ़ाई का खाका तैयार कर लिया है। चार साल वाले इन कोर्सों की पढ़ाई शैक्षिक सत्र 2016-17 से शुरू होगी। एनसीटीई का आदेश 15 जुलाई को कानपुर यूनिवर्सिटी में आया है। अब यूनिवर्सिटी नया एक्ट बनाकर इन कोर्सों की शुरूआत करेगी।
टीचिंग एजूकेशन की गुणवत्ता और उसका दायरा बढ़ाने के उद्देश्य से एनसीटीई ने बीएड का इंटीग्रेटेड कोर्स लांच किया है। इसके तहत बीए और बीएससी के साथ बीएड की पढ़ाई चार साल में पूरी की जा सकेगी। यानी पढ़ाई में एक साल का समय बच जाएगा, क्योंकि बीएड की पढ़ाई दो साल की हो गई है। बीए और बीएससी में तीन साल लगते हैं। इंटीग्रेटेड कोर्स के लिए हर कॉलेज को 100-100 सीटों की मान्यता दी जाएगी। प्रिंसिपल सहित 16 शिक्षक पठन-पाठन का काम देखेंगे। इनमें से दो प्रोफेसर की नियुक्ति जरूरी है। इसी तरह बैचलर ऑफ एलीमेंट्री टीचर एजूकेशन (बीएलएड) का कोर्स भी लांच हुआ है। इस कोर्स में बीए और बीएससी के साथ बीटीसी की पढ़ाई की अनुमति दी गई है। यह कोर्स भी चार साल का है। जो कॉलेज इसकी मान्यता लेंगे, उन्हें 50-50 सीटों पर एडमिशन की अनुमति दी जाएगी। प्रिंसिपल सहित 11 शिक्षकों से पठन-पाठन का काम लिया जाएगा। इसके अलावा एनसीटीई ने बीएड और एमएड का तीन वर्षीय इंटीग्रेटेड कोर्स डिजाइन किया गया है। यह कोर्स ग्रेजुएशन के बाद किया जा सकता है।
एनसीटीई ने चार साल का इंटीग्रेटेड कोर्स लांच किया
अभी ग्रेजुएशन के बाद मिलता है मौका, एक साल का समय बचेगा
इंटरमीडिएट के बाद बीएड और बीटीसी का विकल्प पहली बार दिया गया है। जो कोर्स डिजाइन हुआ है, उसे सभी राज्य, केंद्रीय और डीम्ड यूनिवर्सिटियों को भेजा जा चुका है। सबसे कहा गया है कि इंटीग्रेटेड कोर्स की पढ़ाई शैक्षिक सत्र 2016-17 से शुरू कराई जाए। ऐसा हुआ तो टीचिंग एजूकेशन की गुणवत्ता में जबरदस्त सुधार होगा, क्योंकि नए कोर्स में थ्योरी की अपेक्षा प्रैक्टिकल पर ज्यादा जोर दिया गया है।

No comments:

Post a Comment