Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Wednesday, 24 June 2015

बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित स्कूलों के बच्चों को मध्याह्न् भोजन योजना के तहत बच्चों को हर बुधवार मिलेगा दूध -

ग्राम प्रधान करें बच्चों के दूध की व्यवस्था


Click here to enlarge image
लखनऊ : बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित स्कूलों के बच्चों को मध्याह्न् भोजन योजना के तहत 15 जुलाई से हर हफ्ते बुधवार को भोजन के अलावा 200 मिलीलीटर उबला दूध दिया जाएगा। यदि बुधवार को सार्वजनिक अवकाश के कारण स्कूल बंद होगा तो बच्चों को अगले विद्यालय दिवस में दूध मुहैया कराया जाएगा। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पांच अगस्त को प्रदेश के किसी भी विद्यालय में जाकर बच्चों को दुग्ध वितरण की व्यवस्था की हकीकत जान सकते हैं। बेसिक शिक्षा विभाग ने बुधवार को इस बारे में शासनादेश जारी कर दिया है। बच्चों को बुधवार को 200 मिलीलीटर उबले दूध के साथ मिड-डे मील में कोफ्ता-चावल खाने को मिलेगा। इसके लिए मध्याह्न् भोजन योजना के मेन्यू में संशोधन कर दिया गया है। अब तक लागू व्यवस्था के तहत स्कूली बच्चों को बुधवार को मिड-डे मील में कढ़ी-चावल या खीर परोसी जाती थी। अब खीर नहीं बनेगी और खीर पकाने पर खर्च होने वाली परिवर्तन लागत को बचाकर उससे बच्चों को दूध सुलभ कराया जाएगा। दूध का इंतजाम स्थानीय स्तर पर किया जाएगा। बच्चों को दूध उपलब्ध कराने का निर्देश मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दिया था। उनका कहना था कि इससे बच्चों को पोषण के लिए जरूरी प्रोटीन और काबरेहाइड्रेट मिल सकेगा।

No comments:

Post a Comment