Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Tuesday, 16 June 2015

प्रशिक्षु शिक्षकों/शिक्षामित्रों को मिली खुशियों की चेक -

  • समारोह में प्रशिक्षु शिक्षकों व शिक्षामित्रों को मुख्यमंत्री ने दी बच्चों में ज्ञान की भूख पैदा करने की नसीहत

Click here to enlarge image
लखनऊ : लंबे संघर्ष के बाद पक्की नौकरी पाने वाले शिक्षामित्रों और साढ़े तीन वर्ष की मशक्कत के बाद नियुक्त प्रशिक्षु शिक्षकों को पहले वेतन का चेक बांटने से पहले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उन्हें बेसिक शिक्षा की हकीकत से रूबरू कराया। रायबरेली के बछरावां में एक परिषदीय स्कूल के निरीक्षण के अपने अनुभव अखिलेश ने उनसे साझा किये। मंगलवार को डॉ.राम मनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय के अंबेडकर सभागार में आयोजित प्रशिक्षु शिक्षकों और शिक्षामित्रों के वेतन चेक वितरण समारोह में मुख्यमंत्री ने बताया कि स्कूल में मौजूद बच्चे किताब में छपा और ब्लैकबोर्ड पर लिखा पढ़ नहीं पा रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक बच्चे ने उन्हें पहचाना भी तो राहुल गांधी के तौर पर। वहां मिड-डे मील में मिलने वाली रोटियां मोटी पाये जाने पर जब उन्होंने रसोइये से इसकी वजह पूछी तो जवाब मिला-‘बच्चे खाते ज्यादा हैं।’ मुख्यमंत्री ने इस घटना का जिक्र बेसबब नहीं किया। इसके माध्यम से उन्होंने प्रशिक्षु शिक्षकों और शिक्षामित्रों को नसीहत दी कि बेसिक शिक्षा जीवन की नींव है और रुकावटों के बावजूद शिक्षकों को शिक्षा, बच्चों और देश को आगे बढ़ाना होगा। बच्चों को विश्वस्तरीय प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार करना होगा, उनमें ज्ञान की भूख पैदा करनी होगी। उन्होंने शिक्षकों को आइना दिखाया तो दूसरी ओर यह दावा भी किया कि शिक्षा के क्षेत्र में जितने काम उनकी सरकार ने किये, वे पहले कभी नहीं हुए। जितनी नौकरियां उनकी सरकार ने दी हैं, उतनी दुनिया में कहीं और नहीं मिली होंगी। समारोह में कुल 2180 प्रशिक्षु शिक्षकों और शिक्षक पद पर समायोजित शिक्षामित्रों को वेतन के चेक बांटे गए। मुख्यमंत्री ने खुद 20 प्रशिक्षु शिक्षकों व इतने ही शिक्षामित्रों को चेक वितरित किये। लखनऊ में प्रस्तावित अभिनव विद्यालय की आधारशिला भी रखी। बेसिक शिक्षा मंत्री राम गोविंद चौधरी ने मुख्यमंत्री को भरोसा दिलाया कि परिषदीय स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता उनकी अपेक्षा के अनुरूप होगी। बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री योगेश प्रताप सिंह ने कहा कि अखिलेश सरकार ने पौने तीन लाख शिक्षकों की भर्तियां की हैं। समारोह को बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री कैलाश चौरसिया और वसीम सिद्दीकी ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में माध्यमिक शिक्षा मंत्री महबूब अली, पर्यटन मंत्री ओम प्रकाश सिंह, कारागार मंत्री बलराम यादव, राजनीतिक पेंशन मंत्री राजेंद्र चौधरी भी मौजूद थे। 

No comments:

Post a Comment