Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Monday, 8 June 2015

नए सत्र में बच्चे पढ़ेंगे सही राष्ट्रगान -

अब सरकारी स्कूलों के बच्चे नये सत्र से सही राष्ट्रगान पढ़ेंगे। राजकीय प्रकाशक की पुस्तकों के पिछले पृष्ठ पर अभी तक प्रकाशित हो रहे राष्ट्रगान में ‘सिंधु’ शब्द के स्थान पर अब ‘सिंध’ शब्द रहेगा। प्रदेश के सरकारी और सहायता प्राप्त प्राथमिक व जूनियर स्कूलों के करीब सवा दो करोड़ बच्चों को मिलने वाली नि:शुल्क पुस्तकों में सालों से राष्ट्रगान में ‘सिंधु’ शब्द छपता आ रहा है। सर्व शिक्षा अभियान के पाठ्यपुस्तक अधिकारी कार्यालय से बताया गया है कि 15 जून के बाद से आ रही नई पुस्तकों के पीछे वाले पृष्ठ पर अब संशोधित राष्ट्रगान रहेगा। राज्य शिक्षा संस्थान ने वर्ष 2014 में प्रमाण सहित सिंधु के स्थान पर सिंध करने का प्रस्ताव पाठ्यपुस्तक अधिकारी को भेजा था। प्रस्ताव में भारत सरकार के प्रकाशन विभाग की ओर से ‘भारत-2014’ का हवाला दिया गया था, जिसमें सही राष्ट्रगान छपा है। इससे पहले वर्ष 2009 में पुस्तकों की समीक्षा के दौरान चर्चा में आए सुधार के प्रस्ताव पर राज्य शैक्षिक अनुसंधान परिषद (एससीईआरटी) ने इस बाबत प्रमाण मांगे थे। उस समय भी ‘सिंधु’ के स्थान पर ‘सिंध’ शब्द होने के प्रमाण दिए गए थे परंतु संशोधन न हो सका। शिक्षा विभाग की ओर से रिकार्ड की जांच करने पर 2001 से त्रुटिपूर्ण राष्ट्रगान प्रकाशित किए जाने की पुष्टि हुई है। 
प्रदेशों संग नदी का औचित्य : किताबों में प्रकाशित राष्ट्रगान की संबंधित पंक्ति ‘पंजाब, सिंधु, गुजरात मराठा’ में सिंधु नदी का नाम है जबकि पंजाब व मराठा प्रदेश हैं। 

No comments:

Post a Comment