Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Monday, 25 May 2015

बच्चों की संख्या देखते हुए बनवाएं मिड-डे मील -

लखनऊ : प्रचंड गर्मी को देखते हुए पिछले साल सूबे में सूखाग्रस्त घोषित किये गए 58 जिलों के जिलाधिकारियों से कहा गया है कि जिन स्कूलों में पर्याप्त संख्या में बच्चे उपलब्ध हों, वहां मिड-डे मील बनवाया जाए। जिन स्कूलों में बच्चे नहीं आ रहे हैं, वहां मध्याह्न् भोजन न बनवाया जाए। इस बारे में मध्याह्न् भोजन प्राधिकरण की निदेशक श्रद्धा मिश्र की ओर से सोमवार को संबंधित जिलाधिकारियों को निर्देश जारी कर दिया गया है। मध्याह्न् भोजन योजना के दिशा निर्देशों में सूखाग्रस्त घोषित किये गए जिलों के स्कूलों में गर्मी की छुट्टियों में भी बच्चों को मिड-डे मील उपलब्ध कराने का प्रावधान है। इसी आधार पर मध्याह्न् भोजन प्राधिकरण ने पिछले साल सूखाग्रस्त घोषित किये गए 58 जिलों के जिलाधिकारियों को निर्देश दिया था कि वे अपने जिले में योजना से आच्छादित स्कूलों व मदरसों में गर्मी की छुट्टियों में भी बच्चों को पका हुआ मिड-डे मील उपलब्ध कराने की व्यवस्था कराएं। मध्याह्न् भोजन प्राधिकरण को फीडबैक मिला कि अत्यधिक गर्मी के कारण स्कूलों में बच्चों की संख्या बेहद कम है। प्रचंड गर्मी के कारण स्कूल आने पर बच्चों की तबीयत खराब होने का भी अंदेशा है। लिहाजा प्राधिकरण ने जिलाधिकारियों को अब यह निर्देश दिया है कि वे स्कूलों में छात्र संख्या को देखते हुए ही मिड-डे मील बनवाने की व्यवस्था कराएं।

No comments:

Post a Comment