Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Thursday, 30 April 2015

29,334 शिक्षकों की भर्ती का मामला -

  • पंद्रह दिन के भीतर नियुक्ति पत्र जारी करने के निर्देश

इलाहाबाद : उच्च प्राथमिक स्कूलों में गणित एवं विज्ञान विषय के 29,334 शिक्षकों की भर्ती में चयनित अभ्यर्थियों ने एक बार फिर अदालती लड़ाई जीत ली है। इससे उनकी नियुक्ति के आसार बढ़ गए हैं। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने गुरुवार को आदेश दिया कि पूर्व पारित आदेशों के क्रम में उन्हें नियुक्ति पत्र जारी किया जाए ताकि जुलाई से शिक्षण प्रक्रिया सुचारू हो सके। यह आदेश न्यायमूर्ति पंकज मित्तल ने संतोष कुमार मिश्र व अन्य की ओर से दाखिल याचिका पर दिया। याचिका में कहा गया था कि वे चयनित अभ्यर्थी हैं और उनकी नियुक्ति की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। इसके बाद भी उन्हें नियुक्ति पत्र नहीं दिया जा रहा है। याचियों ने इस भर्ती के संबंध में न्यायमूर्ति सुधीर अग्रवाल द्वारा 29 मई, 2014 को पारित आदेश का हवाला भी दिया, जिसमें कहा गया था कि दो माह में प्रक्रिया पूरी करके पंद्रह दिन के भीतर अभ्यर्थियों को नियुक्ति किया जाए ताकि शिक्षण कार्य सुचारु हो सके। अदालत ने इसी आधार पर अभ्यर्थियों के हक में फैसला सुनाया और कहा कि पूर्व में पारित आदेश पर राज्य सरकार अमल करे। जुलाई 15 से पहले शिक्षकों को नियुक्ति पत्र जारी कर दिया जाए। उल्लेखनीय है कि न्यायमूर्ति सुधीर अग्रवाल के फैसले के अनुपालन में राज्य सरकार ने काउंसिलिंग की प्रक्रिया पूरी कर ली है लेकिन दाखिल हुई कुछ अन्य याचिकाओं में स्थगन आदेश के चलते नियुक्ति पत्र नहीं जारी किया जा सका था।

No comments:

Post a Comment