Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Monday, 22 December 2014

अब मदरसा शिक्षकों को कोषागार से पेंशन -

  • 459 मदरसों के अवकाश प्राप्त शिक्षकों व कर्मचारियों को फायदा
  • 30 नवंबर तक रिटायर होने वालों को मिलेगी सुविधा
लखनऊ (ब्यूरो)। प्रदेश के अनुदानित मदरसों के अवकाश प्राप्त शिक्षकों व कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर है। उन्हें अब पहली जनवरी से जिला कोषागार के जरिये पेंशन दी जाएगी। इससे इन रिटायर शिक्षकों और कर्मचारियों को पेंशन के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। इस कदम से मदरसों में होने वाले भ्रष्टाचार पर भी लगाम लग सकेगी।
अभी अवकाश प्राप्त शिक्षकों को जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी व मदरसा संचालकों के जरिये पेंशन दी जाती है। इसके लिए उन्हें जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी व मदरसा संचालक दोनों को ही सुविधा शुल्क देना होता है। इसके बाद ही इन शिक्षकों को उनकी पेंशन मिल पाती है। इस व्यवस्था को सरकार ने खत्म करते हुए इन्हें भी अन्य राज्य कर्मचारियों की तरह कोषागारों से पेंशन देने का निर्णय किया है। इससे प्रदेश के 459 मदरसों के अवकाश प्राप्त शिक्षकों व कर्मचारियों को फायदा होगा। इन्हें सरकार की ओर से हर साल करीब 20 करोड़ रुपये की पेंशन दी जाती है।
सरकार ने साफ कर दिया है कि दिसंबर की पेंशन या फिर पारिवारिक पेंशन एक जनवरी 2015 को जिला कोषागार से मिलेगी। नई व्यवस्था में 30 नवंबर 2014 तक रिटायर हो चुके कर्मचारियों व शिक्षकों को पेंशन कोषागार से दी जाएगी। यह प्रक्रिया लागू होने के बाद इन्हें भी हर वर्ष नवंबर या दिसंबर में जीवित प्रमाण पत्र कोषागार में ही जमा करवाना होगा।

No comments:

Post a Comment