Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Wednesday, 1 October 2014

साक्षर भारत मिशन में मिले 68.46 लाख -

फर्रुखाबाद। साक्षर भारत मिशन को सफल बनाने के लिए जिले को 68.46 लाख रुपये का बजट मिला है। इसमें 40.96 लाख रुपये प्रेरक मानदेय भुगतान का बजट शामिल है। 27.50 लाख रुपये का वह बजट है जो लौटा दिया गया था और सरकार ने इसे फिर से आवंटित कर दिया है।
असाक्षराें को साक्षर बनाए जाने के लिए केंद्र सरकार की साक्षर भारत मिशन योजना चल रही है। इसके तहत जिले के खाते में पड़े 27.50 लाख रुपये खर्च न होने के कारण वापस हो गए थे। जिले में वर्ष 2014 में 848 प्रेरकों का चयन हुआ था। इनको दो माह का मानदेय मिला है। आठ माह से वह मानदेय के लिए आंदोलन कर रहे हैं। केंद्र सरकार ने प्रेरकों का दो माह का मानदेय भुगतान किए जाने को ब्लाक लोक शिक्षा खाते में धन भेज दिया है। जिला मुख्यालय से वापस हुए 27.50 लाख रुपये सरकार ने योजना को सफल बनाए जाने के लिए वापस कर दिए हैं। इस तरह जिले में साक्षर भारत मिशन योजना के तहत 68.46 लाख रुपये बजट आया है। प्रेरकों को मानदेय का भुगतान ई-पेमेंट से होगा। इसके लिए प्रधानाध्यापक, प्रधान, ब्लाक समन्वयक और जिला समन्वयक प्रेरकों के मानदेय भुगतान की सूची को संस्तुति कर बीईओ और बीडीओ के पास भेेजेंगे। इसके बाद बीडीओ और बीईओ संयुक्त रूप से खाते से धन निकाल कर प्रेरकों के खाते में भेजेंगे।
यहां इतना आया बजट
बढ़पुर 3.92 लाख रुपये
कायमगंज 6.08 लाख रुपये
कमालगंज 7.84 लाख रुपये
मोहम्मदाबाद 6.56 लाख रुपये
नवाबगंज 4.56 लाख रुपये
राजेपुर 5.76 लाख रुपये
शमसाबाद 6.24 लाख रुपये
40.96 लाख रुपये प्रेरकाें के मानदेय के लिए
27.50 लाख रुपये जिला मुख्यालय पर आया

No comments:

Post a Comment