Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Sunday, 21 September 2014

सीबीएसई बोर्ड की तर्ज पर होगी पढ़ाई - परिषदीय विद्यालय

  • जनवरी से नई समय-सारणी लागू करने की तैयारी 
  • सुबह नौ से दोपहर तीन बजे तक चलेंगे विद्यालय 

"मौसम के अनुरूप समय बदलने से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित होती है। इसके मद्देनजर सालभर के लिए एक समय व पढ़ाई का एक पैटर्न लागू कराने के लिए मैं प्रस्ताव तैयार करा रहा हूं, शासन से अनुमति लेकर उसे जल्द लागू करने की तैयारी है।" - संजय सिन्हा, सचिव बेसिक शिक्षा परिषद इलाहाबाद।

इलाहाबाद : माध्यमिक के बाद परिषदीय विद्यालयों में पठन-पाठन केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद (सीबीएसई) की तर्ज पर किए जाने की तैयारी चल रही है। इसके तहत प्रदेश के विद्यालयों के खुलने, बंद होने का समय एक रखने के साथ पढ़ाई हर घंटे विषयवार कराई जाएगी। बौद्धिक क्षमता बढ़ाने के लिए बच्चों को किताबी ज्ञान के साथ रचनात्मक कार्यो को बढ़ावा दिया जाएगा। बेसिक शिक्षा परिषद नया प्रस्ताव तैयार करा रहा है जिसके तहत प्रदेश के विद्यालय सुबह नौ बजे खुलेंगे और तीन बजे बंद होंगे। अभी विद्यालय सुबह सात से दोपहर 12 बजे तक चलते हैं। एक अक्टूबर से ठंड के मद्देनजर विद्यालयों का समय सुबह दस से चार बजे तक हो जाएगा। 1सीबीएसई बोर्ड में बच्चों को पढ़ाने के साथ उनके अंदर रचनात्मक कौशल विकसित करने पर विशेष ध्यान दिया जाता है। विद्यालयों के खुलने बंद होने का समय प्रत्येक मौसम में एक रहता है। हर घंटे अलग-अलग विषयों की पढ़ाई कराई जाती है जिसका बच्चों पर अच्छा प्रभाव देखने को मिलता है। परिषदीय विद्यालयों में ऐसी व्यवस्था नहीं है। इसके चलते बच्चों में पढ़ाई के प्रति रुचि नहीं रहती। साल भर में विद्यालय का समय दो बार परिवर्तित किया जाता है। कुछ जिलों में बेसिक शिक्षाधिकारी अपनी सुविधा अनुसार विद्यालय चलाते हैं। परंतु नए प्रस्ताव में प्रदेशभर के विद्यालयों में सालभर की समय सारणी एक करने की तैयारी है। इसके तहत विद्यालय सुबह नौ बजे खुलकर दोपहर तीन बजे बंद होंगे। बेसिक शिक्षा परिषद सचिव संजय सिन्हा कक्षा एक से आठ तक के परिषदीय विद्यालयों के लिए नया प्रस्ताव तैयार करके उसे शासन को भेजने वाले हैं। अगर सबकुछ ठीक रहा तो जनवरी माह से विद्यालयों में नई समय सारणी लागू हो जाएगी।


3 comments:

  1. C.B.S.E. K SCHOOLS TO A.C. HOTE HAIN.AP K PAS KYA HAI,GRAMIN CHHATRA.C.B.S.E. KSTUDENTS KHETI NHI KRTE.A.C. BUILDING M BAITH KR BASICSCHOOLS KI YOJNAYEN BANANA GALAT HAI.
    BASIC SCHOOLS K TIME SUMMER M 7AM TO 12 NOON AUR WINTER M 9AM TO 2:30PM UCHIT HAI.HAN SYLLABUS C.B.S.E. KA RAKH SAKTE HAIN.FIR BASIC SCHOOLS M PADNE BALEY STUDENTS K FAMILY K STATUS C.D.S.E. K SAMAN HAI.
    SECRETARY JI KYA BASIC SHIKSHA SE JUDE STAFF N KABHI APNE BACHCHON KO BASIC SCHOOLS M PADAYA HAI?GAUR KI JIYE.

    ReplyDelete
  2. C.B.S.E. K SCHOOLS TO A.C. HOTE HAIN.AP K PAS KYA HAI,GRAMIN CHHATRA.C.B.S.E. KSTUDENTS KHETI NHI KRTE.A.C. BUILDING M BAITH KR BASICSCHOOLS KI YOJNAYEN BANANA GALAT HAI.
    BASIC SCHOOLS K TIME SUMMER M 7AM TO 12 NOON AUR WINTER M 9AM TO 2:30PM UCHIT HAI.HAN SYLLABUS C.B.S.E. KA RAKH SAKTE HAIN.FIR BASIC SCHOOLS M PADNE BALEY STUDENTS K FAMILY K STATUS C.B.S.E. K SAMAN HAI.
    SECRETARY JI KYA BASIC SHIKSHA SE JUDE STAFF N KABHI APNE BACHCHON KO BASIC SCHOOLS M PADAYA HAI?GAUR KI JIYE.

    ReplyDelete
  3. Pahle har class ke liye 1 teacher kar lijiye............sachiv madoday...........yahan aise vidhyal bhi hai jo mart ek teacher dekhta hai........jamini hakihat se rubaru ho......pahle ......

    ReplyDelete