Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Thursday, 11 September 2014

किसी का वेतन रोका तो किसी को दी बैड इंट्री

  • बीएसए को बढ़पुर ब्लाक के परिषदीय स्कूलों के निरीक्षण में मिलीं खामियां
  • बच्चों को पहाड़ा, जोड़ घटना कुछ भी नहीं आता
  • बच्चों की संख्या अधिक दिखाकर भोजन में हो रहा खेल
फर्रुखाबाद। परिषदीय विद्यालयों में पढ़ने वाले नौनिहालों को पहाड़ा, जोड़ घटना कुछ भी नहीं आता है। एमडीएम में बच्चों की संख्या अधिक दर्शाकर खेल हो रहा है। यह हकीकत जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के निरीक्षण में खुलकर आई। बीएसए ने किसी का वेतन रोका तो किसी को प्रतिकूल प्रविष्टि दी है।
जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी योगराज सिंह को बढ़पुर विकास खंड के परिषदीय स्कूलों के निरीक्षण में खामियां मिलीं। प्राथमिक विद्यालय नगला पजाबा में कक्षा तीन व चार में कोई भी बच्चा 17 का पहाड़ा नहीं सुना पाया। सहायक अध्यापिका चंद्रवती अनुपस्थित थीं। यहां की प्रधानाध्यापक को शैक्षिक गुणवत्ता खराब होने पर प्रतिकूल प्रविष्टि दी गई। पूर्व माध्यमिक विद्यालय नगला पजाबा में कक्षा सात की छात्राएं जोड़ घटना नहीं कर र्पाइं। यहां तैनात एक अनुदेशक और एक शिक्षक को बंद विद्यालय में लगाए जाने का बीईओ को आदेश दिया है। प्राथमिक विद्यालय पिथूपुर मेंहदिया में 114 बच्चों के लिए मात्र दो लीटर मठ्ठा और 500 ग्राम बेसन का प्रयोग कढ़ी बनाने में किया गया। यहां की प्रधानाध्यापिका अरुण मिश्रा की एक स्थाई वेतन वृद्धि घटाने का आदेश दिया गया। अतिरिक्त कक्षा कक्ष में ताला पड़ा रहने, बाउंड्रीवाल टूटी होने के संबंध में बीईओ को जांच करने के आदेश दिए।
पूर्व माध्यमिक विद्यालय पिथूपुर मेंहदिया में सहायक अध्यापक राधाकृष्ण अनुपस्थित मिले। यहां एमडीएम पंजिका में 9 सितंबर को 90 बच्चों के लिए भोजन बनाया जाना अंकित था। निरीक्षण के दिन 44 बच्चे मौजूद मिले। एमडीएम योजना में वित्तीय अनियमितताएं मिलीं। प्रधानाध्यापक राधाकृष्ण राठौर की एक वेतन वृद्धि स्थायी रोक दी गई और अनुपस्थित दिन का वेतन काटने का आदेश दिया गया। प्राथमिक विद्यालय अजमतपुर में कक्षा तीन के बच्चे आठ का पहाड़ा नहीं सुना पाए। यहां 248 बच्चे पंजीकृत हैं। मौके पर आधे भी नहीं मिले। सहायक अध्यापिका प्रियंका शाक्य की एक स्थाई वेतनवृद्धि रोकने का आदेश बीईओ को दिया गया। पूर्व माध्यमिक विद्यालय अजमतपुर में बिजली फिटिंग घटिया किस्म की मिली। कई खामियां मिलने पर बीईओ को जांच करने का आदेश दिया गया। इसके साथ ही प्रधानाध्यापक रामदत्त राजपूत की एक स्थायी वेतनवृद्धि रोकी गई। बीएसए ने खंड शिक्षा अधिकारी बढ़पुर को स्कूलों की शैक्षिक गुणवत्ता में सुधार किए जाने को निरीक्षण करने का आदेश दिया है।
शिक्षकों को दिए सुझाव
• विद्यालय बंद होने के एक घंटा पूर्व सभी बच्चों की कक्षावार चौपाल लगाकर पहाड़ा याद कराने का अभ्यास कराया जाए।
• ब्लैक बोर्ड पर हिंदी, गणित व अन्य विषयों का प्रत्येक दिवस बच्चों को अभ्यास कराया जाए।
• जोड़-घटाना सिखाया जाए।
• प्रत्येक विद्यालय में शिक्षक डायरी का प्रयोग होना चाहिए।
• एमडीएम योजना के तहत मीनू के अनुसार भोजन बनवाया जाए।


2 comments:

  1. jb bachho ko kuch kh nhi skte to gav ka bachcha pd lega kya//
    agr bachche ke abhbhavk use ghr pr pdhne ki trf dhyaan n de to kewl school ki pdhai se hi baalk pdg lega kya apne
    sarkari bachcho pr ktu chubhte swal ?????????????
    aap bhi soch ke dekho kya hm sb apne aap ghr pr nhi pdhate the ????
    pdhai koi shrbat hai jise hm kisi ko pila denge??????
    apne baalk pr hm sb kitna dhyaan dete hai ,utna dhyan kya unhe apne abhibhawk se milta hai?????
    apne baalk ko kewl school ki pdhai pr kyu nhi chhod dete???? jb kewl school ki pdhai se hi baalk hoshiyaar ho jaata hai???

    ReplyDelete
  2. Sir...shasan ki nitiyo ki taraf bhi dhyan de.........
    ..baccho ko na yaad karne per ....dand...nahi de sakte......baccho ke na janne per.....fail.....nahi kar sakte......baccho ke na...vidyalay aane per....naam nahi kaat sakte.........ye to sashan ke niyam ab vibhag ka khel dekhe.......27 bacche.......5 teacher...........150 bacche .....1 ....teacher........sari kamiya ......Shikshko me hi nahi hai.........jara apna adhikari wala chashma utar ke dhekhe ......sab saaf dhikega..........

    ReplyDelete