Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Friday, 22 August 2014

आठवीं कक्षा तक छात्रवृत्ति योजना बंद करने की तैयारी

लखनऊ। कक्षा एक से आठ तक के पिछड़े वर्ग के छात्रों को छात्रवृत्ति की सुविधा खत्म किए जाने की तैयारी कर ली गई है। पिछड़ा वर्ग कल्याण निदेशालय ने इस बाबत शासन को पत्र भेजा है। साथ ही इस मद में आवंटित बजट को दशमोत्तर कक्षाओं के विद्यार्थियों पर खर्च करने अनुमति मांगी है।
पिछड़े वर्ग के आठवीं तक के करीब सवा करोड़ विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति देने के लिए 520 करोड़ रुपये की जरूरत है। लेकिन राज्य सरकार ने इस वर्ग के कक्षा-1 से कक्षा-10 तक की छात्रवृत्ति के लिए महज 233 करोड़ रुपये ही दिए हैं।
पिछड़ा वर्ग निदेशालय ने बजट दशमोत्तर छात्रों पर खर्च करने की अनुमति मांगी सवा करोड़ विद्यार्थियों के लिए 520 करोड़ की जरूरत, मिले सिर्फ 233 करोड़
समाज कल्याण विभाग ने मांगे 340 करोड़
जहां पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग ने कक्षा एक से आठ तक के विद्यार्थियों के लिए चलाई जा रही छात्रवृत्ति योजना बंद करने की अनुमति मांगी है, वहीं समाज कल्याण विभाग ने पूर्व दशम छात्रवृत्ति योजना जारी रखने के लिए राज्य सरकार से 340 करोड़ रुपये मांगे हैं। समाज कल्याण विभाग को इस मद में 342 करोड़ रुपये की जरूरत है, मगर उसे सिर्फ दो करोड़ रुपये ही दिए गए हैं।

No comments:

Post a Comment