Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Tuesday, 19 August 2014

‘बीएड की सीटें भरने को नई नियमावली’

कानपुर। छत्रपति शाहूजी महाराज यूनिवर्सिटी (सीएसजेएमयू) से संबद्ध बीएड कॉलेजों के प्रबंधकों ने मंगलवार को मीटिंग करके खाली 87 हजार सीटें भरने के लिए राज्य सरकार से नई नियमावली बनाने की मांग की है। 125 से ज्यादा प्रबंधकों ने कहा है कि नई नियमावली बनने के बाद ही संकट खत्म होगा। ऐसा नहीं हुआ तो यूपी के 500 से ज्यादा बीएड कॉलेज बंद हो जाएंगे। इसको लेकर कॉलेज प्रबंधक चिंतित दिखे। यूपी में बीएड की 87 हजार सीटें खाली हैं। सीएसजेएमयू से संबद्ध 14 जिलों के करीब 150 बीएड कॉलेजों की 10 हजार सीटें भी नहीं भरी जा सकी हैं। सुप्रीम कोर्ट ने अब आनलाइन और पूल काउंसलिंग कराने से इंकार कर दिया है।
  • निजी डिग्री कॉलेजों के प्रबंधक चिंतित
  • सीधे एडमिशन का विकल्प भी मांगा, प्रबंधक
  • यहां के कॉलेज प्रबंधक आए
  • कानपुर नगर, कानपुर देहात, कन्नौज, फर्रुखाबाद , इटावा, औरैया, हरदोई, फतेहपुर, उन्नाव, रायबरेली, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, इलाहाबाद, कौशांबी।

No comments:

Post a Comment