Breaking News -
बाल अधिकार अधिनियम 2011- बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का शासनादेश स्कूल चलो अभियान- वर्ष 2015 स्कूल चलो अभियान शासनादेश नि:शुल्‍क यूनीफार्म- वर्ष 2015-16 नि:शुल्‍क यूनीफार्म शासनादेश परिषदीय अवकाश- वर्ष 2015 की अवकाश तालिका एवं विद्यालय खुलने की समयसारि‍णी मृतक आश्रित- मृतक आश्रित सेवा नियमावली अध्‍यापक सेवा नियमावली- अध्‍यापक सेवानियमावली 2014 साक्षर भारत मिशन- समन्‍वयक एवं प्रेरक के कार्य एवं दायित्‍व विद्यालय प्रबन्‍ध समिति- विद्यालय प्रबन्‍ध समिति के कार्य एवं दायित्‍व परिषदीय पाठयक्रम- परिषदीय विद्यालयों का मासिक पाठयक्रम प्राइमरी प्रशिक्षु भर्ती - प्रशिक्षु भर्ती शासनादेश जूनियर भर्ती- जूनियर गणित/विज्ञान भर्ती का शासनादेश शिक्षामित्र - शिक्षामित्र समायोजन का शासनादेश प्रसूति/बाल्‍यकाल - प्रसूति एवं बाल्‍यकाल अवकाश सम्‍बन्‍धी शासनादेश अलाभित/दुर्बल प्रवेश सम्‍बन्‍धी - शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्‍तर्गत 25 प्रतिशत एडमिशन सम्‍बन्‍धी शासनादेश पति/पत्नी HRA शासनादेश - राजकीय सेवा में पति/ पत्नी दोनों के कार्यरत होने पर मकान किराया भत्ता आदेश अमान्य विद्यालय सम्बन्धी शासनादेश - अमान्य विद्यालय बंद करने एवं नवीन मान्यता शर्तो सम्बन्धी शासनादेश UPTET 2011 परीक्षा परिणाम - UPTET 2011 परीक्षा परिणाम का Verification करने के लिए

Sunday, 31 August 2014

प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती- 45 फीसदी वालों को नहीं माना पात्र -

  • एससीईआरटी0निदेशक के आदेश के बावजूद डायट प्राचार्यों की मनमानी से अभ्यर्थी भटके
  • कहीं हुई काउंसलिंग तो कहीं लौटाए गए 
लखनऊ। प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती में पहले चरण की काउंसलिंग रविवार को समाप्त हो गई। राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) के निदेशक सर्वेंद्र विक्रम सिंह के आदेश के बाद भी डायट प्राचार्यों ने खूब मनमानी की। स्थिति यह रही कि स्नातक में 45 फीसदी अंक वालों को कहीं काउंसलिंग में शामिल किया गया तो कहीं लौटा दिया गया। छोटी-छोटी जानकारी के लिए अभ्यर्थियों को भटकना पड़ा। गैर जरूरी कागजात के लिए इतना दौड़ाया गया कि उनके पसीने छूट गए। 
एससीईआरटी ने 72,825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती के लिए पहले चरण में तीन दिन 29, 30 व 31 अगस्त को काउंसलिंग कार्यक्रम तय किया था। एससीईआरटी ने जो कार्यक्रम जारी किया था उससे अभ्यर्थियों को काउंसलिंग में किसी तरह की दिक्कतें न आती, लेकिन डायट प्राचार्यों ने या तो इससे जुड़े आदेश को पढ़ा नहीं या फिर उसकी अनदेखी कर दी। एससीईआरटी से जारी आदेश में स्पष्ट कहा गया है कि 27 सितंबर 2011 को जारी शासनादेश संख्या 3176 में दी गई व्यवस्था के आधार पर आवेदकों को पात्र मानते हुए काउंसलिंग की जाएगी। इसके बाद भी डायट प्राचार्यों ने इसका पालन नहीं किया। स्थिति यह रही कि कई जिलों में 45 फीसदी अंकों में स्नातक उत्तीर्ण करने वालों को काउंसलिंग में शामिल किया गया तो कई जिलों में ऐसे अभ्यर्थियों को वापस कर दिया गया।

डायट प्राचार्यों की मनमानी के खिलाफ 72,825 प्रशिक्षु शिक्षक के अभ्यर्थी एससीईआरटी का घेराव करने की तैयारी में हैं। हरेंद्र मौर्या, शशि भूषण आदि कुछ अभ्यर्थियों ने कहा है कि 27 सितंबर 2011 को जारी शासनादेश में स्पष्ट व्यवस्था दी गई है कि 45 फीसदी अंक में स्नातक पास वाले शिक्षक भर्ती के पात्र होंगे। इसके बाद भी डायट प्राचार्य मनमानी पर उतारू हैं। इससे तो बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मंशा साफ नहीं लग रही है। सुप्रीम कोर्ट का स्पष्ट आदेश है कि भर्ती प्रक्रिया जल्द पूरी की जाए। इसके बाद भी अधिकारी इसे लटकाने पर उतारू हैं। इसलिए अभ्यर्थी जल्द ही एससीईआरटी का घेराव करेंगे।


No comments:

Post a Comment